Tuesday, 25th April, 2017
चलते चलते

मोदी के अमेरिका पहुचते ही ट्रंप ने पूछा- फ़्लाइट में कोई दिक़्क़त? मोदी बोले- मेरा तो रोज़ का काम है

28, Jan 2017 By Pagla Ghoda

वाशिंगटन डी.सी. अमेरिका ने नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दो दिन पहले भारत के प्रधानमंत्री मोदी को अमेरिका आने का न्योता क्या भेजा मोदी अगली ही फ्लाइट से वाशिंगटन जा पहुंचे। व्हाइट हाउस पहुँचते ही ट्रंप ने मोदी से मिज़ाज़पुर्शी की खातिर पूछा लिया- “फ्लाइट कैसी रही मिस्टर मोदी, कोई दिक्कत परेशानी?” तो मोदी फट से बोले, “ये फ्लाइट में घूमना उड़ना, ये तो मेरा रोज़ का काम है ट्रंप भाई!” ये सुनते ही ट्रंप ने अपनी आँखें चौड़ी करके अपने ही शाही अंदाज़ में कहा, “वैरी गुड, वैरी गुड, आई लाइक दिस गाए आलरेडी!”

Modi9
ट्रंप को सरप्राइज विजिट देते मोदी जी

कहा जा रहा है कि मोदी से मित्रता एवं सौहार्द जताने के लिए ट्रंप ने हिंदी और गुजराती के कई वाक्य रट रखे थे, जो उन्होंने आते ही मोदी को सुना दिए। जैसे कि “अबकी बार ट्रंप सरकार”, “केम छो? मजामा?” और “मंदिर वहीँ बनाएंगे।” हालाँकि प्रधानमंत्री कार्यालय के सूत्रों के अनुसार ट्रंप का हिंदी एक्सेंट इतना भयावह था कि मोदी को कुछ समझ ही नहीं आया। बाद में ट्रंप की हिंदी को सामान्य हिंदी में ट्रांसलेट करने के लिए भी एक अमेरिकन बोर्न भारतीय ट्रांसलेटर को साथ रखा गया। ट्रंप की धर्मपत्नी मेलानिया ने भी देसी लुक के लिए घाघरा चोली का वेस्टर्न गेटअप किया, जो उनके हिसाब से काफी कूल ड्रेस थी।

मोदी ने भी ट्रंप से मित्रता दिखाने के लिए अंग्रेजी में धड़ाधड़ कई किस्से सुनाये, जिनमें उन्होंने बताया कि कैसे अमेरिका से उनका जन्मों-जन्मों का पुराना नाता रहा है। कैसे इस देश से उन्हें सदैव आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलती रही है। कुछ सनसनीखेज़ सूत्रों के अनुसार ये भी पता चला कि अपनी बातचीत के दौरान मोदी ने ये किस्सा भी सुनाया कि कैसे अमेरिका की गलियों में उनका बचपन गुज़रा, परंतु क्या सच में मोदी ने ऐसा किस्सा सुनाया, इस बात की पुष्टि अभी नहीं हो सकी है।

खैर जो भी हो! मोदी से इस लंबी मुलाक़ात का ट्रंप पर इतना प्रभाव पड़ा कि अपनी अगली दो पब्लिक स्पीचों में ट्रंप ने स्पीच के शुरू में चीख कर कहा- “मीटरों, मीटरों!” बाद में पता चला कि वो दरअसल ‘मित्रों’ ‘मित्रों’ कहना चाह रहे थे।



ऐसी अन्य ख़बरें