Saturday, 24th June, 2017
चलते चलते

रामविलास पासवान ने दिया हिलेरी क्लिंटन को बिना शर्त समर्थन, अब यूएस में भी मंत्री बनना तय

17, Oct 2016 By बगुला भगत

नयी दिल्ली/वॉशिंगटन. केंद्र में सरकार चाहे, यूपीए की हो, एनडीए की हो या थर्ड फ्रंट की, उसमें रामविलास पासवान का मंत्री बनना पक्का होता है। लेकिन इस बार वो देश की सीमा से बाहर निकलकर इंटरनेशनल लेवल पर मिनिस्टर बनने के जुगाड़ में हैं। इस बारे में उनकी अमेरिका के कई नेताओं से बात चल रही है।

Paswan5
हिलेरी क्लिंटन को फ़ोन लगाते रामविलास पासवान

जैसे ही पासवान को ख़बर मिली कि हिलेरी क्लिंटन का जीतना तय है, उन्होंने तुरंत हिलेरी को बिना शर्त समर्थन देने का एलान कर दिया। अंदरखाने पता चला है कि कहने को तो उन्होंने अपना समर्थन बिना शर्त दिया है लेकिन वो हिलेरी से रेल मंत्रालय मांग रहे हैं, जो बिहार के नेताओं की पहली पसंद होती है। अगर उन्हें रेल मंत्रालय नहीं भी मिला तो खाद्य एवं आपूर्ति मंत्रालय तो कहीं नहीं गया!

सूत्रों के हवाले से हमें यह भी पता चला है कि पासवान अपनी लोकजनशक्ति पार्टी के लिये हिलेरी से 20 सीटें मांगने वाले हैं। बुधवार को होने वाली आख़िरी प्रेसिडेंटियल डिबेट के बाद पासवान हिलेरी से मुलाक़ात का प्रोग्राम बना रहे हैं। जिसमें वो हिलेरी को बतायेंगे कि अमेरिकी दलित वोटों पर उनकी अच्छी पकड़ है और अमेरिका के 50 प्रांतों में से 15 प्रांतों में दलित वोट निर्णायक भूमिका निभाते हैं।

इसके अलावा, वो अपने बेटे चिराग के लिये नेवाडा सीट से टिकट मांगने वाले हैं, क्योंकि उसका नाम बिहार की नवादा सीट से मिलता जुलता है।

उधर, हिलेरी इस पूरे घटनाक्रम से हैरान हैं। उन्होंने अपने सहायकों से पूछा कि “ये पासवान जी कौन है?” सहायकों ने उन्हें बताया कि “इंडिया के एक दलित नेता हैं और सदाबहार मंत्री हैं।” सहायकों ने हिलेरी को यह भी बताया कि “ट्रंप ने दो दिन पहले ही इंडिया और मोदी की तारीफ़ की है, इसलिये उनके बारे में संभलकर बयान दें।” इसके बाद हिलेरी ने समर्थन देने के लिये पासवान का आभार जताया और उन्हें मिलने के लिये अमेरिका आने का निमंत्रण भी दे दिया। अब पासवान अगली फ़्लाइट पकड़कर अमेरिका रवाना होने वाले हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें