Friday, 24th March, 2017
चलते चलते

मोदी ने ट्रंप से नहीं बताया कोई 'पुराना नाता', नाराज़ ट्रंप ने पटक दिया फ़ोन

25, Jan 2017 By बगुला भगत

नयी दिल्ली/वॉशिंगटन. अमेरिका के नव-निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और हमारे प्रधानमंत्री मोदी के बीच रिश्ते शुरु होने से पहले ही ख़राब हो गये। व्हाइट हाउस के सूत्रों का कहना है कि दोनों नेताओं के बीच पहली फ़ोन कॉल में ही बात बिगड़ गयी। हालांकि, इस बात को पूरी दुनिया से छुपाया गया और झूठ-मूठ कहा गया कि दोनों के बीच बड़ी अच्छी-अच्छी बातें हुईं।

Trump-Modi
‘पुराना नाता’ वाली लाइन सुनने को बेक़रार ट्रंप

व्हाइट हाउस के पीआरओ पैट्रिक एंडरसन ने फ़ेकिंग न्यूज़ को दिये ख़ास इंटरव्यू में इस बात का खुलासा किया। एंडरसन ने बताया कि “हां, ये सच है! मिस्टर प्रेसीडेंट बात करते-करते अचानक नाराज़ हो गये थे और उन्होंने फ़ोन बीच में ही पटक दिया था।”

“एक्चुअली, मिस्टर ट्रंप को उम्मीद थी कि मोदी जी उनसे भी अपना कोई पुराना रिश्ता बतायेंगे लेकिन आपके मोदी जी ने ऐसा कुछ भी नहीं कहा और उन्हें तपा दिया। ट्रंप जी इंतज़ार में थे कि वो अब कहेंगे अब कहेंगे और इस उम्मीद में बार-बार ‘और सुनाओ…और सुनाओ’ बोल रहे रहे।” -एंडरसन ने बताया।

“लेकिन मोदी जी अपनी ही रामकहानी में लगे रहे। कभी ट्रंप को अपनी नोटबंदी का किस्सा सुनाने लगते तो कभी उन्हें कैशलेस ट्रांजेक्शन के फ़ायदे गिनाने लगते। फिर पूछने लगे- ट्रंप भाई आप पेटीएम करते हो या नहीं?”

“ट्रंप जी फिर भी ‘पुराने नाते’ की उम्मीद में कंट्रोल किये रहे और ‘हूं-हां’ करते रहे। लेकिन मोदी जी भी कमाल के आदमी हैं! फिर अपने इलेक्शन का किस्सा लेकर बैठ गये। कहन लगे ये हमारे आरएसएस वाले हर बार इलेक्शन से पहले कोई ना कोई कांड कर देते हैं।” ट्रंप जी ने कहा- ‘और कुछ?’ तो मोदी जी बोले- ‘बस…और तो कुछ नया नहीं है ट्रंप भाई!'” यह सुनते ही उनका धैर्य जवाब दे गया और उन्होंने फ़ोन पटक दिया।” -यह कहकर एंडरसन ने भी फ़ोन रख दिया।

इधर, कूटनीति के जानकारों का कहना है कि “जिस तरह मोदी जी ख़ुद को गालियाँ देने वालों को भी अपने पाले में मिला लेते हैं, उसी तरह एक दिन वो ट्रंप को भी मना ही लेंगे और 15 अगस्त पर उन्हें भारत के दौरे के लिये राज़ी भी कर लेंगे।”



ऐसी अन्य ख़बरें