Friday, 18th August, 2017

चलते चलते

मोदी-ओबामा की दोस्ती में दरार, ट्रंप के ख़िलाफ़ चुनाव प्रचार करने से मना किया मोदी ने

28, Jul 2016 By बगुला भगत

नयी दिल्ली/वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विश्व-प्रसिद्ध दोस्ती में दरार पड़ गयी है। और इस दरार की वजह बने हैं ओबामा के प्रतिद्वंदी और रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप। ओबामा चाहते थे कि मोदी अमेरिका आकर ट्रंप के ख़िलाफ़ दो-एक चुनावी रैली कर दें क्योंकि मोदी वहां ओबामा से भी ज़्यादा पॉपुलर हैं।

Obama Modi
दोनों दोस्तों के अच्छे दिनों की एक तस्वीर

व्हाइट हाउस के सूत्रों का कहना है कि जब मोदी 6 जून को स्विट्ज़रलैंड से अमेरिका पहुंचे थे तो ओबामा ने उनसे नाराज़गी जताते हुए कहा था कि “मोदी भाई, चुनाव सर पे हैं और आप बर्फ़ के पहाड़ देखते घूम रहे हो। अब चुनाव तक यहीं रहो, इंडिया में आपके कौन से बच्चे रो रहे हैं।”

लेकिन मोदी जी उन्हें गच्चा देकर उसी रात अमेरिका से मेक्सिको निकल गये। कुछ दिन बाद ओबामा का फिर फ़ोन आया कि “क्या तब आओगे मोदी भाई जब चुनाव ख़त्म हो जायेंगे।” मोदी जी ने बहाना बनाया कि “बहुत खर्चा हो जाता है बराक भाई!”, तो ओबामा बोले- “एक चक्कर और मार दो कौन पूछ रहा है और आपको कौन सा अपनी जेब से देना पड़ रहा है।” मोदी जी ने “देखता हूं” कहकर फ़ोन रख दिया।

लेकिन अगले दिन ही वो अफ्रीका के टूर पर निकल गये। जैसे ही ओबामा को पता चला तो उनका पारा चढ़ गया। उन्होंने तुरंत मोदी जी को मैसेज किया- “आपने तो हद कर दी मोदी भाई! यहां घर में चुनाव हो रहे हैं और आप ऐसे टाइम पे कीनिया में घूम रहे हो।” मोदी जी ने “हैलो हैलो…आवाज़ नहीं आ रही” कहते हुए फिर फ़ोन रख दिया।

इस बात को आज 15 दिन हो गये हैं, हॉटलाइन पर घंटों बतियाने वाले दोनों दोस्तों ने एक-दूसरे को एक मैसेज तक नहीं किया। ख़बर मिली है कि ओबामा रोज़ शाम को ड्रिंक करने के बाद व्हाइट हाउस के कर्मचारियों को घंटो तक पकाते रहते हैं- “मैंने उसे वीज़ा दिया, दुनिया भर की सेवा-टहल की और उसने मेरे साथ ये किया! तुम्हारी मिशेल भाभी ख़ुद अपने हाथों से उसे पकवान बनाकर खिलाती थी। सब भूल गया वो!”

इधर, पीएमओ के सूत्रों का कहना है कि मोदी जी भी ओबामा को फिर से उनके पूरे नाम से पुकारने लगे हैं- ‘बराक हुसैन ओबामा!’



ऐसी अन्य ख़बरें