Monday, 24th April, 2017
चलते चलते

दो-तीन परमाणु बम फोड़कर टेस्ट करना चाहते थे ट्रंप, सिक्योरिटी गार्ड ने बड़ी मुश्किल से रोका

22, Jan 2017 By Ritesh Sinha

वॉशिंगटन. व्हाइट हाउस के न्यूक्लियर कमांड सेंटर में उस समय कोहराम मच गया, जब नए-नवेले राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को न्यूक्लियर कमांड सौंपा जा रहा था। जैसे ही उन्हें परमाणु बम का ‘सीक्रेट कोड’ सौंपा गया, वो वहां मौजूद सुरक्षा अधिकारियों से भिड़ गए। दरअसल ट्रंप अपने परमाणु भंडार में से कुछ बम फोड़कर चेक करना चाहते थे, ताकि पता लगाया जा सके कि उनके बम सही सलामत हैं भी या नहीं!

trump2
परमाणु बम का कोड मांगते ट्रंप

“देखूं तो! ओबामा ने हमारे बमों का ठीक से ख्याल रखा भी है या नहीं! कहाँ बम गिराऊं..कहाँ गिराऊं!” कहते हुए ट्रंप ग्लोब पर नज़र दौड़ाने लगे। यह देखकर वहां मौजूद गार्ड्स और वैज्ञानिकों के होश उड़ गए। एक सीनियर साइंटिस्ट ने ट्रंप को रोकते हुए बड़े अदब से कहा- “सर! ऐसा मत करिए। वरना लाखों लोग मारे जाएँगे। ये दिवाली का सुतली बम नहीं है, एटम बम है!” यह सुनते ही ट्रंप गुस्से में बोले-“अरे! टेस्ट करने में क्या बुराई है। इसी बहाने चेक भी हो जाएगा कि हमारे बमों में जंग तो नहीं लग गया है!” -कहते हुए ट्रंप लाल बटन दबाने लगे।

तभी एक वैज्ञानिक ने डरते-डरते उनका हाथ पकड़ लिया और गिड़गिड़ाते हुए कहा- “सर! ये आप क्या कर रहे हैं। हमारे सभी बम एक नंबर के टंच माल हैं, इन्हें बार-बार टेस्ट करने की कोई जरूरत नहीं है।” लेकिन ट्रंप नहीं माने और मशीन में अपना फिंगरप्रिंट फीड करने लगे। यह देखकर वहां मौजूद गार्ड्स और वैज्ञानिक डर के मारे थर-थर कांपने लगे।

सभी ट्रंप को रोकने का उपाय सोचने लगे। तभी एक सिक्योरिटी गार्ड विलियम स्टेपनी को एक जबरदस्त आइडिया आया और वह जोर से चिल्लाया- “सर! पुतिन जी का फोन है क्रेमलिन से, वो आपको बधाई देना चाहते हैं और आपसे कुछ सीक्रेट बात करना चाहते हैं।” यह सुनते ही ट्रंप उछलते हुए बोले- “क्या! पुतिन भैय्या का फोन आया है! छोड़ो इस परमाणु बम को! बाद में देख लेंगे। पहले उनसे सीक्रेट बात कर लूं।” कहते हुए ट्रंप कमांड सेंटर से निकलकर तेज़ी से अपने ऑफिस की ओर चल पड़े।

आफत को टलता देख सभी लोगों की जान में जान आयी और सबने विलियम ‘स्टेपनी’ को अपने कंधे पर उठा लिया। ट्रंप के जाने के तुरंत बाद उन्होंने न्यूक्लियर हथियारों में ‘चाइल्ड लॉक सिस्टम’ लगा दिया ताकि अगली बार ट्रंप की ज़िद से बचा जा सके।

उधर,ट्रम्प से हारने के बाद हिलेरी क्लिंटन बेरोज़गार हो गई हैं। इस खाली समय में वो एक किताब लिखने वाली हैं, जिसका नाम होगा- ‘हैकिंग से बचने के 10 आसान रास्ते’, जिसका विमोचन अगले हफ़्ते ओबामा के हाथों होगा।



ऐसी अन्य ख़बरें