Tuesday, 17th January, 2017
चलते चलते

अगर पाक ने आतंकवाद ना रोका तो उसकी मंथली सैलरी 200 से घटाकर 199 करोड़ डॉलर कर देंगे: यूएस

24, Sep 2016 By Pagla Ghoda

वॉशिंगटन/इस्लामाबाद. अमेरिका ने पाकिस्तान को बेहद सख्त चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि वो अपनी आतंकवादी गतिविधियों से बाज़ ना आया तो उसका मासिक वेतन अर्थात आर्थिक सहायता काफी हद तक घटाई जा सकती है। सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि क्रोध में आकर अमेरिका पाक की मासिक सहायता को 200 करोड़ डॉलर से घटा कर केवल 199 करोड़ डॉलर कर सकता है।

Obama-Nawaz4
ओबामा को महीने के खर्चों की लिस्ट दिखाते नवाज़ शरीफ़

जहाँ दुनियाभर में अमेरिका के इस कदम की सराहना की जा रही है वहीं पाकिस्तान के तथाकथित प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ ने इसे दुनिया के सामने पाकिस्तान को बेइज़्ज़त करने की इंडिया की एक और चाल बताया है। इस बारे में मीडिया को संबोधित करते हुए नवाज़ ने कहा कि “देखिये मसला ये है कि इंडिया वाले तो ऐसी बातें करते ही रहते हैं, हमारे अमनपसंद मुल्क को बदनाम करने के लिए!”

“अभी कुछ दिन पहले गलती से हमारी फ़ौज से सीज़ फायर टूट गया। अजी लड़के हैं गलती से चीज़ें तोड़-ताड़ देते हैं। बैठे-बैठे बोर हो रहे होंगे तो गलती से दब गया होगा किसी से बन्दूक का ट्रिगर! तो इस छोटी सी बात पे इंडिया वालो ने तो साहब पूरी दुनिया में हल्ला मचा दिया। अब उसी सीज़ फायर उल्लंघन के बीच में हमारे कुछ नॉन-स्टेट एक्टर्स घुस गए इंडिया में, तो उसमें हम क्या करें! हम सिर्फ पाक की पार्लियामेंट को रिप्रेजेंट करते हैं। बाकी हमारी फ़ौज, पाकिस्तानी तालिबान, अल कायदा और बाकी जो तीस पैंतीस दहशतगर्द तबके हैं, वो क्या करते हैं उससे हमें क्या लेना-देना?” -दूध में बादाम शेक मिलाते हुए नवाज़ ने कहा।

फिर दूध में एक लंबा घूंट भरने के बाद बोले, “और मैं सबको ये भी बता दूँ कि हम किसी से डरते नहीं हैं। मैं ये ज़रूर मानता हूँ कि हम सब की सैलरी अमेरिका से आती है लेकिन मंथली सैलरी को 200 करोड़ डॉलर से घटा कर 199 करोड़ डॉलर कर भी दिया तो क्या होगा। ये तो एक परसेंट से भी कम का चेंज है। मेरी मंथली सैलरी दस लाख डॉलर से घट के निन्यानवे लाख हो जाएगी और मेरे चपरासी की सैलरी दस हज़ार रूपये से घट के नौ हज़ार नौ सौ हो जाएगी। हाँ, लेकिन इस कॉस्ट-कटिंग के चलते अगर हमारे आकाओं ने मेरे फॉरेन टूर कम करवा दिए तो बेगम को शॉपिंग करवाने के लिए जेब से पैसे खर्चने होंगे। वो एक्सट्रा खर्चा जनाब मेरे पल्ले नहीं पड़ना चाहिए, नहीं तो मैं कभी किसी इंडिया वाले की तारीफ नहीं करूँगा। जनाब केजरीवाल की भी नहीं!”

इसके तुरंत बाद नवाज़ नें ऑनलाइन बैंकिंग द्वारा अपने बैंक अकाउंट में लॉगिन करके बैलेंस चेक किया और उनके चेहरे की मुस्कान बता रही थी कि अमेरिका ने अभी सैलरी कट करना शुरू नहीं किया है।



ऐसी अन्य ख़बरें