Wednesday, 29th March, 2017
चलते चलते

मुँह सूँघकर बेवड़ों को चेक करने वाली बिहार पुलिस को अमेरिका से बुलावा, NYPD को देगी ट्रेनिंग

01, Oct 2016 By Ritesh Sinha

पटना. बिहार पुलिस ने जब से शराबियों का मुँह सूँघकर दारू का पता लगाना शुरू किया है, तब से उनके चर्चे देश विदेश में हो रहे हैं। इसी कड़ी में बिहार पुलिस के कारनामों की चर्चा अमेरिका में भी हो रही है। न्यूयॉर्क पुलिस डिपार्टमेंट (NYPD), बिहार पुलिस को ब्रेथलाईजर मशीन के बिना ही बेवड़ों का पता लगाते हुए देखकर दांतों तले उँगलियाँ चबाने को मजबूर हो गया है।

ब्रेथलाइज़र का इस्तेमाल करती अमेरिकी पुलिस
ब्रेथलाइज़र का इस्तेमाल करती अमेरिकी पुलिस

न्यूयॉर्क के पुलिस कमिश्नर विलियम ब्रैटन ने फेकिंग न्यूज़ को जो बताया उसका हिंदी अनुवाद इस प्रकार है कि “देखिए! बिहार पुलिस की तकनीक को देखकर हम हैरान हैं, मुझे तो पहले लगा कि बिहार पुलिस सबको “किस” करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन जब हमें बताया गया कि ये  दारू का पता लगाने की नई तकनीक है जो बिहार पुलिस ने विकसित की है तो हमें बहुत अफ़सोस हुआ। अफ़सोस इसलिए कि ये आईडिया हमें क्यों नहीं आया? फालतू में हमने करोड़ों रूपए खर्च करके बेवड़ों का पता लगाने के लिए ब्रेथलाईजर मशीन ख़रीद लिया।” पुलिस कमिश्नर मि. ब्रैटन ने आगे बताया कि “इस अफ़सोस के साथ ही साथ हम बिहार सरकार के कायल हो गए हैं, जिनकी निकम्मेपन की वजह से ही ये महान खोज हुई है।”

आज ही हमने बिहार सरकार से अपील की है कि दारू का पता लगाने वाले उन पुलिसवालों को कुछ दिन के लिए अमेरिका भेजें ताकि वे हमारे जवानों को भी बिना मशीन के बेवड़ों का पता लगाने की तकनीक सिखा सकें। आने-जाने का पूरा खर्चा हम उठाएँगे।”- मि. ब्रैटन ने चहकते हुए कहा। बिहार पुलिस ने भी इस बात की पुष्टि की है कि न्यूयॉर्क पुलिस ने उनसे मदद मांगी है। हालाँकि सरकार ने इसका निर्णय अभी नहीं लिया है कि बिहार पुलिस को अमेरिका ट्रेनिंग देने के लिए भेजा जाए की नहीं। फिर भी विशेषज्ञों ने सलाह दी है कि अगर बिहार पुलिस, न्यूयॉर्क की पुलिस को ट्रेनिंग देने जाती है, तो वहां से आते समय सारी ब्रेथलाईजर मशीन बदले में मांगकर ला लेनी चाहिए।



ऐसी अन्य ख़बरें