Monday, 27th February, 2017
चलते चलते

शैतान ने बदले नर्क-कानून, पापियों को गर्म-तेल में खौलाने के बजाय बेहद धीमा इंटरनेट देकर तड़पाया जाएगा

06, Dec 2016 By Pagla Ghoda

नर्कद्वार. बड़े-बुजुर्गों की कहानियों में अक्सर छोटे बच्चों को डराने के लिए बताया जाता था कि मरने के बाद नरक में जाने पर पापियों को गर्म तेल से भरी कढ़ाई में फेंक दिया जाता है, या उनके साथ ऐसी कुछ अन्य क्रूरताएं भी की जाती हैं। परंतु वो सब अब बीते ज़माने की बातें हो चुकी हैं। नरक के एडमिनिस्ट्रेशन में हाल ही में भारी बदलाव हुए हैं और शैतान की पदवी सँभालने वाले शैतान सिंह जी अब नरक के कानूनों में काफी फेरबदल करने वाले हैं।

Slow Internet1
स्लो इंटरनेट स्पीड देकर तड़पाया जा रहा एक युवक

स्वयं शैतान सिंह जी ने इस मामले में एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा, “कुछ लोग मुझे शैतान कहते हैं स्वामी, कुछ सेटन, कोई-कोई डेविल भी कह देता है। कुछ मूर्ख लोग मुझे देवीलाल उर्फ़ डेविल भी कहने लगे हैं जो कि बिलकुल गलत है स्वामी। खैर, इन सब से परे मैं खुद को एक इंसान मानता हूँ, क्योंकि इंसान ही किसी दूसरे इंसान को दुःख दे सकता है स्वामी, और कोई नहीं!”

लाल मसाले वाली चाय सिप करते हुए शैतान सिंह जी आगे बोले, “शारीरिक दुःख मानुष सह लेता है स्वामी परंतु मानसिक दुःख दुष्कर होते हैं। इसलिए अब मैंने सबक लिया है। अब जो जघन्य पापी नरक में लाये जायेंगे, उन्हें घंटों-घंटों तक लंबी लाइनों में खड़ा रखा जायेगा, जब तक वो एक दूसरे से लड़-झगड़ ना पडें। जो ज़्यादा झगड़ेंगे, उन्हें दो लाख रूपये के नोट दिए जाएंगे दो-दो हज़ार के और तीन घंटे में उन सभी नोटों के छुट्टे लाने भेज दिया जायेगा, यह सुनते ही वे रो देंगे। कुछेक टेक्नोलॉजी-प्रेमी पापियों को एक कंप्यूटर दे दिया जायेगा जिसमें या तो इन्टरनेट की सुविधा ही नहीं होगी या अगर होगी भी तो उन्हें वाई-फाई का पासवर्ड नहीं बताया जायेगा। और अव्वल दर्जे के पापियों के कंप्यूटर में इन्टरनेट भी होगा और पासवर्ड भी होगा परंतु स्पीड इतनी स्लो होगी कि गूगल भी ढ़ाई घंटे में लोड होगा। और पूरा दिन उन्हें उसी कंप्यूटर का इस्तेमाल करना होगा। सोच कर देखिये, सिहर उठेंगे आप!”

बीच में एक ज़रूरी कॉल के लिए शैतान जी ने खुद को एक्सक्यूज़ किया और साइड में चले गये। वापिस आने पर जब प्रेस ने उनसे सवाल करने शुरू किये तो उन्होंने कहा, “देखिये मेरी बीवी का फ़ोन आया था, इसलिये मुझे फ़ौरन जाना होगा पर मुझे मालूम है कि आप लोगों के बहुत सारे सवाल हैं, तो मैं इन शार्ट कहूंगा कि हम भी ह्यूमन राइट्स वालों के नोटिसों से तंग आ चुके हैं, इसलिए अब से कढ़ाई में गर्म तेल में तलना बंद! सारी शारीरिक क्रूरताएं बंद! लेकिन कसम पुराने शैतान की! अपनी मनोवैज्ञानिक सजाओं से तोड़ के रख दूंगा इन पापियों को!” इसके बाद शैतान सिंह जी का मोबाइल फिर से बजने लगा और वो घबराते हुए “आया डार्लिंग” कहते हुए प्रेस वार्ता छोड़कर भाग गये।

नरक नगरी के सूत्रों की मानें तो ह्यूमन राइट्स तो केवल बहाना है, दरअसल कढ़ाइयों में डालने वाले तेल की अत्यधिक खपत और कुकिंग गैस के बढ़ते बिल के कारण नरक का बजट काफी गड़बड़ा गया है और ये सब नयी सज़ाएं मात्र कॉस्ट कटिंग का नतीजा है।



ऐसी अन्य ख़बरें