Tuesday, 17th January, 2017
चलते चलते

मंदिरों में अंडों की जगह egg-less केक रखने पर राज़ी हुई 'पोकेमोन गो' गेम की कंपनी

08, Sep 2016 By बगुला भगत

अहमदाबाद/सैन फ्रांसिस्को. ‘पोकेमॉन गो’ गेम बनाने वाली कंपनी नियांटिक अब मंदिरों में अंडों की जगह egg-less केक रखने के लिये तैयार हो गयी है। कंपनी की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि अगले हफ़्ते से मंदिर के किसी भी पोकस्टॉप पर अंडे नज़र नहीं आयेंगे, वहां सिर्फ़ वेज आइटम्स ही मिलेंगे।

Pokemon3
मंदिर के बाहर वेजिटेरियन पोकेमोन प्लेयर्स की भीड़

गुजरात हाई कोर्ट के नोटिस का जवाब देते हुए नियांटिक इंक. के फाउंडर जॉन हैंके ने कहा कि “हम चाहते हैं कि हमारे पोकेमोन गो को दुनिया का बच्चा-बच्चा खेले। और अगर इंडिया के वेज प्लेयर पोकेमोन नहीं खेलेंगे तो ये हमारे बिज़नेस के लिये अच्छी बात नहीं होगी। इसलिये हमने फ़ैसला किया है कि वेजिटेरियन प्लेयर्स को अगले हफ़्ते से मंदिरों में अंडों के बजाय egg-less केक और केले रखे मिलेंगे।”

“अब हम अंडे वाले पोकस्टॉप्स सिर्फ़ ‘बार’ और ‘मॉडल शॉप’ में बनायेंगे क्योंकि भारत में सबसे ज़्यादा अंडे वहीं पे मिलते हैं। अच्छी बात ये है कि वहां अंडों के साथ-साथ नमकीन भी मिलती है।” -हैंके ने मुस्कुराते हुए कहा।

हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर करने वाले अनिल दवे ने नियांटिक के इस फ़ैसले का स्वागत किया है। दवे ने egg-less केक से अपने वकील का मुंह मीठा कराते हुए कहा कि “इन अंडों की वजह से हमारे जैन और हिंदू धर्म के शाकाहारी प्लेयर मंदिरों में पोकेमॉन पकड़ने नहीं जा पा रहे थे। इस वजह से नॉन-वेज प्लेयर उनसे आगे निकल रहे थे और ऊपर के लेवल पर पहुंचते जा रहे थे।”

“और सिर्फ़ गेम खेलने वाले ही नहीं, नॉर्मल श्रद्धालु भी इन अंडों की वजह से मंदिरों में जाने से डर रहे थे। उन्हें डर था कि कहीं किसी अंडे पे पैर ना पड़ जाये।” -श्री दवे ने बताया। उधर, कुछ मुस्लिम संस्थाओं ने भी अब ‘एंग्री बर्ड’ गेम पर बैन लगाने की मांग शुरु कर दी है। उनका कहना है कि इस गेम में सुअर दिखाये गये हैं, जो मुस्लिम प्लेयर्स के लिये हराम हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें