Tuesday, 17th January, 2017
चलते चलते

मोबाइल सिग्नल की तलाश में व्यक्ति अन्तरिक्ष पहुंचा, पत्नी वापस धरती पर लायी

19, Aug 2016 By चीखता सन्नाटा

हैदराबाद. बीती रात बुधिया नामक व्यक्ति का मोबाइल फोन के सिग्नल खोजते-खोजते मंगल ग्रह की कक्षा में जा पहुंचने और उसकी पत्नी द्वारा उसे वापस लाने का हैरतअंगेज मामला सामने आया है। बकौल बुधिया, “रोज की तरह मैं अपने मोबाइल फोन के सिग्नल की तलाश में घर से निकला था। कुछ दूर जाने के बाद मुझे सिग्नल तो नहीं मिले पर लगा जैसे नीचे से धरती खिसक गयी हो। कुछ देर बाद आँखों के आगे अँधेरा छा गया। मैं फिर भी सिग्नल ढूंढता हुआ आगे बढ़ता गया। अचानक मेरा सर किसी भारी चीज से टकराया।”

mobile-signal
मंगल की ओर बढ़ते बुधिया के क़दम

इसरो के वैज्ञानिकों ने बताया कि जिस भारी चीज की बुधिया बात कर रहा था, वो दरअसल इसरो द्वारा भेजा मंगल यान था। “जब हमारे उपकरणों को मंगल पर कुछ हलचल दिखायी दी तो बुधिया की घनी दाढ़ी और उसके पीछे से झांकती उसकी करेले जैसी आँखों को देखकर पहले हमें लगा कि हमने मंगल पर जीवन को ढूंढ निकाला है।” -इसरो के एक वैज्ञानिक ने नाम ना छापने की शर्त पर बताया।

एक अंतर्राष्ट्रीय स्पेस एजेंसी के जाने-माने वैज्ञानिक ने भी इस घटना की पुष्टि की, “इसरो सस्ते अन्तरिक्ष अभियान के लिए जानी जाती है। इसलिए जब हमने बुधिया की तस्वीर देखी तो हमें लगा कि शायद इसरो ने इंसान को अन्तरिक्ष में भेजने का कोई सस्ता तरीका ढूंढ निकाला है। हम हैरान थे कि इसरो के इस गुप्त मिशन की हमें भनक भी नहीं लगी!”

जब हमारे संवाददाता ने बुधिया से इस बारे में अधिक पूछताछ की तो उसकी आँखें भर आई, “जब अँधेरे में मुझे कुछ नहीं सूझा तो मैंने अपनी पत्नी को आवाज लगाई। इसके बाद क्या हुआ, मुझे कुछ नहीं पता, पर जब मुझे होश आया तो मैं घर में था।”

बुधिया की पत्नी ने इस बारे में कुछ भी बात करने से साफ़ इनकार कर दिया। हमारे संवाददाता के बहुत जोर देने पर वह आखिरकार बिफरती हुई बोली, “मैंने अपने पति से हज़ार बार कहा कि उस मुई थ्री जी फोन वाली लड़की की बातों में मत आओ, पर इन्होंने मेरी कभी सुनी है जो आज सुनेंगे! उस लड़की के चक्कर में ये दुनिया ही भूल गए। पर मैंने भी सात फेरे लेकर इनसे शादी की है। कसम खाई थी कि जहां भी होंगे, ढूंढ निकालूँगी! अगली बार घर से बाहर भी निकले तो टाँगे तोड़ दूंगी!”

उधर, इस पूरे मामले ने राजनीतिक रंग लेना शुरु कर दिया है। विपक्षी पार्टियों ने बुधिया के अन्तरिक्ष में पहुंचने की घटना को लेकर सीधे प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा है। एक ऊँचे कद के बुजुर्ग नेता अपनी बहती नाक को सफ़ेद कुर्ते से पोंछते हुए बोले- “लोगों को अभी भी मोबाइल सिग्नल के लिए मीलों दूर का सफर तय करना पड़ता है। क्या यही हैं मोदी जी के अच्छे दिन?”

इसी बीच खबर आ रही है कि देश की एक प्रमुख मोबाइल कंपनी मंगल पर अपनी मोबाइल सेवाओं को लांच करने के विज्ञापन में छरहरी लड़की को हटाकर बुधिया को अपना ब्रांड एम्बेसडर चुनने पर विचार कर रही है।



ऐसी अन्य ख़बरें