Monday, 26th June, 2017
चलते चलते

डेटा शेयरिंग को लेकर गुप्ता परिवार में कलह बढ़ी, छोटे बेटे को 50 MB ज़्यादा देने पर बड़े बेटे ने घर छोड़ा

27, Jun 2016 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. मोबाइल पर डेटा शेयरिंग की वजह से शहर का गुप्ता परिवार टूट की कगार पर पहुंच गया है। कम डेटा मिलने से नाराज़ गुप्ता जी का बड़ा बेटा मयंक कल रात घर छोड़कर चला गया, जो अभी तक लौटकर नहीं आया।

Data
“शिट! फिर से डेटा ख़त्म”

पहाड़गंज में रहने वाले गोपेंद्र गुप्ता के परिवार में डेटा शेयरिंग को लेकर आये दिन झगड़ा होता रहता था। कल शाम भी बाप-बेटे में इसी बात को लेकर बहस हो गयी। मयंक ने गुप्ता जी से थोड़ा सा डेटा शेयर करने को कहा तो वो उस पर बरस पड़े- “चार दिन पहले तो तुम्हें डेढ़ सौ एमबी दिया था। कहां गया वो? मेल चेक करने में इतना खर्च होता है क्या!”

“दे दो सारा अपने इस लाड़ले को!” -कहकर मयंक ग़ुस्से में पैर पटकता हुआ घर से निकल गया। उसकी मां सुशीला तभी से उस एयरटेल वाली लड़की को कोसे जा रही हैं- “उस मनहूस ने जब से ये शेयरिंग का आइडिया दिया है, हमारे तो घर में आग ही लग गयी।”

“पहले ये सब अपना अलग-अलग रीचार्ज कराया करते थे। लेकिन एड देखकर ये उस लड़की के कहने में आ गये और बोले कि जब एक से काम चल सकता है तो सबको अलग-अलग कराने की क्या ज़रूरत है। मेरे में से ही ले लिया करो सब!”

“मैंने कितनी बार कहा कि सब में बराबर बांटा करो। जो भी देना हो, सबको बराबर दो। पर मेरी सुनता कौन है। पता नहीं मेरा मंकी (मयंक का घर का नाम) किस हाल में होगा!” -कहकर वो रोने लगीं।

उधर, कमला नगर में अपने दोस्त के घर में व्हॉट्सएप पर लगे पड़े (उसके फ्री वाई-फाई पर) मयंक ने बताया- “पापा मेरे साथ हमेशा सौतेला व्यवहार करते हैं। मैं एक-एक एमबी के लिये तरसता रहता हूं और अम्मू (अमोल) के फ़ोन में डेटा भरा रहता है। मुझे पता है वो करोल बाग़ वाली दुकान भी पक्का उसी को देंगे।” इसके बाद वो व्हॉट्सएप पर दर्द भरे मैसेज भेजने में बिजी हो गया।

इस बीच, गुप्ता जी ने इलाक़े में जगह-जगह पोस्टर चिपकवा दिये हैं- “मंकी, तुम जहां कहीं भी हो, तुरंत घर लौट आओ। जितना चाहो, उतना डेटा ले लेना। अम्मू और अपनी मम्मी का डेटा भी तुम्ही ले लेना। डेटा लिये तुम्हारे इंतज़ार में- तुम्हारा पापा।”



ऐसी अन्य ख़बरें