Tuesday, 25th July, 2017
चलते चलते

टेस्ट मैच में टॉस कराने के बाद पांच दिनों तक क्या करते हैं मैच रैफ़री? उठे सवाल

27, Mar 2017 By Ritesh Sinha

धर्मशाला. डेढ़ सौ साल तक टेस्ट मैच खेलने के बाद अब जाकर एक बड़ा विवाद खड़ा हो गया है। वो यह कि जनाब मैच रैफ़री साहब टॉस कराने के आलावा काम क्या करते हैं? वे सिर्फ एक बार टॉस के समय ही मैदान में नज़र आते हैं, फिर गायब हो जाते हैं। लोग जानना चाहते हैं कि आखिर वे बाकी के पांच दिनों में करते क्या हैं? सिर्फ टॉस कराने के बदले उन्हें कितने लाख रुपये दिए जाते हैं? रैफ़री का खर्चा बचाने के लिए ‘टॉस’ अंपायर क्यों नहीं करवाते? वगैरह-वगैरह।

Match Referee
मशहूर मैच रैफ़री क्रिस ब्रॉड टॉस कराने का ‘काम’ करते हुए

इस विवाद के बाद मैच रैफ़री होना, दुनिया का सबसे आरामदायक काम माना जा रहा है। एक बार मैदान में जाओ! ‘हेड’ या ‘टेल’ बताओ और बाकी के पांच दिन ऐश करो! यहाँ तक कि टॉस के दौरान सिक्का भी वो खुद नहीं उछालता। इतनी सुविधा तो प्रधानमंत्री को भी नहीं मिलती। माना जा रहा है कि इस विवाद के बाद रैफ़रियों को खिलाडियों को पानी पिलाने का एक्स्ट्रा काम भी सौंपा जा सकता है।

हालाँकि, इस विवाद से रिची रिचर्डसन बेहद नाराज़ हैं। रिची फिलहाल धर्मशाला में खेले जा रहे टेस्ट मैच में मैच रैफ़री हैं। उन्होंने बताया कि “हम पे आरामख़ोरी के सारे आरोप बकवास हैं। हम भी मैदान में कड़ी मेहनत करते हैं। टॉस कराना कोई बच्चों का खेल नहीं है भाईसाब! आधे लोगों को तो ये भी पता नहीं होता कि सिक्के में ‘हेड’ किधर होता है और ‘टेल’ किधर? इसी नॉलेज की वजह से तो हम मैच रैफ़री बनते हैं। ये कोई छोटा-मोटा काम है क्या!”

“लेकिन आप लोग बोर नहीं होते दिन भर बैठे-बैठे?” यह सुनते ही वो भड़क गए और ‘आप’ से सीधे ‘तू-तड़ाक’ पे आ गये- “मुझसे बहस मत कर! जहां शिकायत करनी है, कर दे! बहुत देखे हैं तेरे जैसे आरटीआई वाले! हम टॉस करा के चार पैसे कमा रहे हैं तो तुझे मिर्ची लग रही है।” -कहते हुए उन्होंने हमारे रिपोर्टर को भगा दिया।

इस बीच, मैच रैफ़री की इस मज़े की जॉब पर अब ‘भारतीय मम्मी-पापा संघ’ की भी नज़र पड़ गई है। अब सब अपने बच्चे को इंजीनियर-डॉक्टर बनाने के बजाय मैच रैफ़री बनाने का सपना देख रहे हैं। धर्मशाला में मैच देखने आये ऐसे ही एक ‘पिता’ गिरीश गुप्ता ने कहा कि “इंजीनियरिंग-विंजीनियरिंग में कुछ नहीं रखा भाईसाब! अगर बच्चे को कुछ बनाना ही है तो मैच रैफ़री बनाओ, पूरी ज़िंदगी मज़े करेगा!”



ऐसी अन्य ख़बरें