Tuesday, 25th July, 2017
चलते चलते

जमैका टी-20: वेस्टइंडीज़ से हार के बाद टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम की मीटिंग का विवरण

10, Jul 2017 By बगुला भगत

किंग्सटन. टी-20 मैच में वेस्टइंडीज़ से मिली शर्मनाक हार के बाद टीम इंडिया के धुरंधर ड्रेसिंग रूम में पहुँचते ही आपस में उलझ गये। यह पूरी घटना फ़ेकिंग न्यूज़ के ख़ुफ़िया कैमरे में रिकॉर्ड हो गयी। आप भी पढ़िये पूरा ब्यौरा-

(ड्रेसिंग रूम में पहुंचते ही कोहली दीवार पर पैड फेंक कर मारते हैं)

India lost to WI
मुँह लटकाये ड्रेसिंग रूम की ओर जाते धुरंधर

कोहलीः इन साले बॉलरों के लिये एक हज़ार रन भी कम हैं।

धवनः चीकू, मैं तो कह रहा हूँ कि बॉलरों को निकाल के ग्यारह के ग्यारह बैट्समैन रक्खो…

कार्तिकः हाँ भाई, ऐसी बॉलिंग तो हम भी कर लेंगे।

भुवीः जब साला कोई कैच ही नहीं पकड़ेगा तो बॉलर क्या जान मराएंगे!

कोहलीः गाली किसको दे रहा है बे? टीम में रहना है कि नहीं!

भुवी (शमी की ओर इशारा करते हुए): मैं तो उसे कह रहा था भाई…

शमीः मेरी क्या ग़लती है! कैच मेरी थी, कोहली भाई फालतू में ही हीरो बनने आ गये बीच में!

कोहलीः साले अब तू बताएगा मुझे किसकी कैच थी! हैं? कप्तान तू है के मैं? बोल!

शमी (गर्दन झुकाते हुए): भाई आप!

कोहलीः और तूने क्यूँ नहीं लपकी बे?

कार्तिकः मैं भी रुक गया भाई, कि इसे भी आप ही लपक लोगे!

जड़ेजा (मूँछों पर ताव देते हुए): वैसे भाई, जिस लौंडे ने आज हमारी मारी है, उसका नाम क्या है?

अश्विनः हाँ यार, हमें तो साले का नाम भी नहीं पता!

पंतः कार्ल लुइस है भाई!

शमीः नहीं, उसका भाई है…ईवन लुईस!

जाधवः कितने छक्के मारे साले ने आज!

धोनीः ओए! क्या बक रहा है बे? अपनी टीम को ऐसा बोलते हैं क्या…

जाधवः मैं कह रहा था कि पूरे एक दर्जन छक्के मारे हैं उसने!

कोहलीः हाँ, लेकिन ऐसे पागलों की तरह थोड़ी मारते हैं। शॉट देखने में भी अच्छे लगने चहिये…एक दम कॉपीबुक स्टाइल में…ऐसे! (स्टेट ड्राइव मारकर दिखाते हैं)

धोनीः हाँ, मारो मगर प्यार से! एक छक्का मार लिया तो फिर पूरा ओवर सिंगल-सिंगल ले के निकालना चहिये।

कार्तिक (धोनी की ओर देखते हुए): लेकिन हमारे प्लेयर तो ना छक्का मारते और ना सिंगल लेते!

कोहलीः रन बनाने तो एक साल पहले ही छोड़ दिये थे, अब स्टंप करना भी छोड़ दिया भाईसाब ने!

धोनी (कार्तिक के मुँह पर ग्लव्ज फेंककर मारते हुए): कीपिंग करनी है ना तुझे! जा कर ले…

(तभी बाहर से पंत आता है)

पंतः कोहली भाई, वो साइकिल अगरबत्ती वाले स्पॉन्सर भाईसाब खड़े हैं बाहर…कह रहे हैं कि टीम के साथ सेल्फ़ी लेनी है!

धोनीः उसे बोलो कि अगरबत्ती की बत्ती बना के डाल ले अपने बैकग्राउंड में…

धवनः ये अगरबत्तियों वाले स्पॉन्सर बनेंगे तो मैच तो हारेंगे ही।

कोहलीः ऐसा मत बोलो! नहीं तो मैच की फ़ीस भी नहीं मिलेगी सालो!…चलो, हाथ-मुँह धोकर आ जाओ सारे!

(इसके बाद सारे प्लेयर अगरबत्ती वाले भाईसाब के साथ सेल्फ़ी लेने निकल जाते हैं)



ऐसी अन्य ख़बरें