Monday, 26th June, 2017
चलते चलते

सिंधु की सफलता देख 4 साल से बैंक PO की परीक्षा का दबाव बना रहे पिताजी ने पकड़ाए बिटिया को रैकेट

20, Aug 2016 By banneditqueen

जौनपुर. Olympics में कई मुकाबलों में हारने के बाद सभी भारतीयों को बस एक ही चीज़ की इतज़ार था, सिंधु के बैडमिंटन फाइनल्स का 19 अगस्त की रात सभी भारतवासी टी.वी. के सामने साँसें रोककर बैठे हुए थे। सिंधू और मारिन के मुकाबले के समय कईयों की हालत तो ऐसी थी कि बस अभी दिल का दौरा पड़ने वाला है। जौनपुर का रहने वाले चौरसिया परिवार भी सिंधू का प्रदर्शन दिल थामें देख रहा था। सिंधु भले ही मारिन से जीत न सकी पर सुरेश चौरसिया के आँसू रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे।

सिंधु की सफलता देख सुरेश उछलने लगे
सिंधु की सफलता देख सुरेश उछलने लगे

उनकी बेटी प्रिया पिछले 4 साल से बैंक P.O. की तैयारी कर रही है। कॉलेज खत्म होने के बाद से ही प्रिया के पिताजी हर रोज़ उसे पी.ओ. की पोस्ट के फायदे गिनाते रहते हैं। हर महीने PO परीक्षा की जितनी मैगज़ीन्स या जितनी भी किताबें बाज़ार में आती हैं सभी खरीद कर लाते हैं। यही नहीं अब तक प्रिया को तीन अलग अलग कोचिंग्स में कोर्स करा चुके हैं। सिंधु को मिली सफलता और शोहरत को देख अब प्रिया के पिता ने यह फैसला किया कि वह उसे बैडमिंटन खेलना सिखाएँगे।आज सुबह ही सुरेश चौरसिया पास की स्पोर्ट्स का सामान बेचने वाली दुकान से प्रिया के लिये रैकेट खरीद लाए।

घर आते ही बोले “आज से सब पढ़ाई लिखाई सब बंद।” यह सुनते ही प्रिया घबरा गई। प्रिया को लगा कि उसके पापा शायद उसकी शादी करवाने का सोच रहे हैं। किताबें साइड में रखकर सुरेश ने अपनी बेटी प्रिया से कहा कि  “आज से तुम भी बैडमिंटन खेलोगी।” प्रिया ने जवाब दिया कि “पापा मुझे कोई दिलचस्पी नहीं है बैडमिंटन में|” पर सुरेश ने प्रिया की एक न सुनी और उसे बैडमिंटन कोर्ट में ले गए। प्रिया अब रोज़ बैडमिंटन की प्रैक्टिस कर रही है।



ऐसी अन्य ख़बरें