Sunday, 22nd April, 2018

चलते चलते

"यह झूठ है! जब मैंने शंकर को कार्तिक से पहले भेजा, तब मैं 'मूड' में नहीं था"- शास्त्री ने दी सफ़ाई

18, Mar 2018 By बगुला भगत

कोलंबो. टीम इंडिया ने निदाहास ट्रॉफ़ी के फ़ाइनल में नागिन का फन कुचल दिया यानि बांग्लादेश को हरा दिया। लेकिन इस बीच टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री का बड़ा अजीबो-ग़रीब बयान आया है। शास्त्री जी का कहना है कि जब मैंने विजय शंकर को दिनेश कार्तिक से पहले बल्लेबाज़ी के लिए भेजा था, तब मैं ‘मूड’ में नहीं था।

Ravi Shastri
मैच के बाद सफ़ाई देते शास्त्री जी

हालांकि, शास्त्री जी से किसी ने कुछ पूछा नहीं था, फिर भी मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में वो बिना किसी के पूछे यह सब बताने लगे। उन्होंने कहा, “जब मैंने विजय शंकर को कार्तिक से पहले बैटिंग करने भेजा, तब मैं बिल्कुल नॉर्मल था। बाई गॉड! चाहे तो मुँह सूँघ के देख लो मेरा!” यह कहकर वो अपना मुँह खोलकर दिखाने लगे।

इस पर एक पत्रकार ने कहा कि “लेकिन सर हम तो ऐसा कुछ कह ही नहीं रहे, फिर आप ये सब क्यों बता रहे हो हमें?”

“नहीं…नहीं! तुम लोग यही सोचते रहते हो ना मेरे बारे में! एक्चुअली…ये तेरे भाई की प्लानिंग थी…कार्तिक को हीरो बनाने की!” -शास्त्री जी ने ‘मिक्स’ की हुई बॉटल में सिप करते हुए कहा और फिर आधे घंटे तक हर लाइन में ‘तेरा भाई’ शब्द का प्रयोग किया।

इसके बाद वो उठे और विजय शंकर को पकड़ के साइड में ले गये और उसे माँ-बहन के रिश्ते से सम्बंधित कुछ ज़रूरी बातें समझाने लगे और शंकर की “सॉरी सर…सॉरी सर” की आवाज़ आती रही।

उधर, टीम इंडिया के पूर्व कूल कैप्टन धोनी का भी मैच के बारे में बयान आया है। धोनी का कहना है कि “अगर मैं क्रीज पे होता तो पहली तीन गेंदों पे ही मैच जिता देता, लास्ट बॉल का वेट नहीं करता मैं!” इस पर कार्तिक ने कोई भी कमेंट करने से इनकार कर दिया और मुँह पर हाथ रखकर अपनी हँसी रोकते हुए चले गये।



ऐसी अन्य ख़बरें