Monday, 20th November, 2017

चलते चलते

'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने पुजारा को दी थोड़ा तेज़ खेलने की सलाह, कहा- "कुछ देश का भी सोचो"

26, Mar 2017 By बगुला भगत

धर्मशाला/नयी दिल्ली. टीम इंडिया के भरोसेमंद बल्लेबाज़ चेतेश्वर पुजारा की धीमी बल्लेबाज़ी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी चिंतित हैं। अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में  प्रधानमंत्री ने आज देशवासियों से पूछा कि “मुझे बताईये बहनो-भाईयो! क्या इतनी धीमी बल्लेबाज़ी से देश आगे बढ़ पायेगा क्या? मैं पूछता हूं बढ़ पायेगा क्या?”

Pujara1
पुजारा को टुक-टुक छोड़ने की सलाह देते प्रधानमंत्री मोदी

श्री मोदी ने फिर सीधे पुजारा को संबोधित करते हुए कहा कि “गुजराती कभी इतना धीमा नहीं खेलते। मुझे और अमित को देखो! हम दोनों भी तो गुजराती हैं! हम अपनी अपोजिशन वाली टीम (कांग्रेस) को कितनी तेज़ी से समाप्त कर रहे हैं। फिर तुम गुज्जू होकर अपोजिशन से इतना दबकर क्यूं खेलते हो?”

फिर पुजारा को थ्री ‘पी’ का मंत्र देते हुए उन्होंने कहा- “पी फॉर ‘पुजारा’, पी फॉर ‘प्ले’ और पी फॉर ‘पॉजिटिव’! मेरी तरह सिर्फ़ पॉजिटिव होकर खेलो। फिर देखो अपोजिशन का क्या हाल होता है!”

इसके बाद उन्होंने देशवासियों से भी सुझाव मांगे कि पुजारा की बैटिंग में तेज़ी कैसे लायी जाये। उन्होंने कहा “आप मुझे बताईए। मैं आपके सुझावों को पुजारा तक पहुंचाऊंगा। और मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि आने वाले समय में पुजारा की बैटिंग में बुलेट ट्रेन जैसी तेज़ी देखोगे। मुझे सिर्फ़ अगली सीरीज़ तक का टाइम दीजिये बहनो-भाईयो! अगर फिर भी वो तेज़ ना खेला तो जिस पिच पर कहोगे, मैं उस पिच पर लेटने को तैयार हूं!” संबोधन के बाद मोदी जी ने टीम के कप्तान कोहली से भी फ़ोन पर बात की और उसे लीडरशिप के कुछ टिप्स दिये।

उधर, विपक्ष ने पुजारा की धीमी बल्लेबाज़ी के लिये सरकार को ज़िम्मेदार ठहराया है। कांग्रेस प्रवक्ता आनंद शर्मा ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि “पुजारा की स्लो बैटिंग के बारे में सरकार कोई क़दम नहीं उठा रही है। वो एक के बाद एक धीमी पारी खेलता जा रहा है और मोदी जी हाथ पे हाथ धरे बैठे हैं।” इस पर बीजेपी ने पलटवार करते हुए कहा है कि “कांग्रेस के शासन काल में तो वो इससे भी धीमा खेलता था। तेज़ी तब क्यूं नहीं याद आयी उन्हें!”



ऐसी अन्य ख़बरें