Wednesday, 22nd February, 2017
चलते चलते

अफ़रीदी को विदाई मैच देने को तैयार हुए कई देश, बस एक शर्त रखी कि ये फ़ाइनल रिटायरमेंट होना चाहिये

20, Sep 2016 By बगुला भगत

कराची/दुबई. शाहिद अफ़रीदी अंतिम रूप से संन्यास लेने को तैयार हो गये हैं लेकिन इसके लिये उन्होंने एक शर्त रख दी है। उन्होंने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) से कहा है कि “मैं संन्यास लेने को तैयार हूं, बस मेरे लिये एक विदाई मैच आयोजित कर दो ताकि मैं इज़्ज़त के साथ क्रिकेट को अलविदा कह सकूं।”

Afridi2
अफ़रीदी को संन्यास के लिये मनाते वसीम अकरम

लेकिन पीसीबी अफ़रीदी की इस शर्त को मानने को तैयार नहीं है। बोर्ड चाहता है कि अफ़रीदी ऐसे ही किसी नॉर्मल मैच में अपने आप संन्यास का एलान कर दें, जो अफ़रीदी को मंजूर नहीं है। उन्होंने धमकी देते हुए कहा है कि “मैं अगले दस साल तक क्रिकेट खेल सकता हूं।” उनकी इस धमकी के बाद पूरे क्रिकेट जगत में ख़ौफ़ पसर गया है।

धमकी सुनते ही भारत समेत कई देश उनके लिये विदाई मैच कराने को तैयार हो गये हैं। क्रिकेट साउथ अफ्रीका (सीएसए) के सीईओ हारुन लोगार्ट ने कहा है कि “जब हम अपने देश में आईपीएल के 50 मैच करा सकते हैं तो ये एक मैच कौन सा मुश्किल है! बस अफ़रीदी हमें लिखकर दे दें कि ये उनका फ़ाइनल रिटायरमेंट होगा। फिर हम उनके लिये एक तो क्या दस मैच कराने को भी तैय्यार हैं।”

उधर, बीसीसीआई के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर का कहना है कि “अफ़रीदी अंकल बस हमें जगह और दिन बता दें। मैच कराना हमारी ज़िम्मेदारी है, रकम चाहे कितनी भी फुंक जाये!”

अफ़रीदी की शिकायत है कि पाकिस्तान में खिलाड़ियों को सम्मानपूर्वक विदाई नहीं दी जाती। इस पर पीसीबी के एक अधिकारी ने नाम ना छापने की शर्त पर कहा- “जब पोते-पोतियां खिलाने की उमर तक खेलते रहोगे तो धक्के मारकर ही भगायेंगे। उसे कुछ याद भी है वो कब से खेल रहा है! हमारे उन खिलाड़ियों ने भी संन्यास ले लिया है, जो तब पैदा भी नहीं हुए थे जब अफ़रीदी पचास मैच खेल चुका था।”

फिर वो बड़बड़ाते हुए बोले- “अब क्या घोड़े पे बिठा के उसकी बारात निकालें। शुक्र मनाओ कि तालिबान वालों का क्रिकेट में इंटरेस्ट नहीं है, नहीं तो कब का संन्यास ले लेते लाला जी!”



ऐसी अन्य ख़बरें