Wednesday, 23rd August, 2017

चलते चलते

महिलाओं का क्रिकेट मैच देखने नहीं पहुँच रहे माल्या, केंद्र सरकार ने घोषित किया 'नारी विरोधी'

21, Jul 2017 By Ritesh Sinha

लन्दन/नयी दिल्ली. महिला क्रिकेट विश्व कप भारतीय टीम शानदार प्रदर्शन कर रही है। भारत ने सेमीफ़ाइनल में कल हरमनप्रीत कौर के शानदार शतक की बदौलत ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी। इस दौरान हज़ारों भारतीय प्रशंसक भी अपनी महिला टीम का हौसला बढ़ाने के लिये स्टेडियम में मौजूद रहे। लेकिन पुरुषों की टीम के सारे मैच देखने वाले विजय माल्या अभी तक किसी भी मैच में नज़र नहीं आये हैं। उनके इस रवैये के कारण केंद्र सरकार ने एक नोटिफिकेशन जारी करके उन्हें ‘महिला विरोधी’ घोषित कर दिया है।

Mallya4
“महिलाओं का सिर्फ़ कैलेंडर वाला खेल पसंद है मुझे”

नोटिफिकेशन की एक प्रति फेकिंग न्यूज़ के हाथ लग गई है, जिसमे साफ़-साफ़ लिखा है कि “विजय माल्या, जो मुख्यतः बैंकों को चूना लगाने के बिजनेस में हैं, वे लंदन में होते हुए भी महिलाओं का मैच देखने नहीं पहुँच रहे हैं। इससे सिद्ध होता है कि वो घोर नारी विरोधी हैं। वो कैलेण्डर निकालने का उनका सारा तामझाम सिर्फ एक दिखावा था, अंदर से वो महिलाओं की कोई इज्ज़त नहीं करते। अतः उन्हें आज से ही ‘महिला विरोधी’ घोषित किया जाता है। -आदेशानुसार, प्रवर्तन निदेशालय, भारत सरकार।”

इस बारे में और बात करते हुए ED के एक बड़े अधिकारी ने बताया कि “देखिए! हम उन्हें वापस तो ला नहीं पा रहे हैं, इसलिए जो हमारे हाथ में है, वही करके थोड़ा सा क्रेडिट लेने की कोशिश कर रहे हैं। और ऐसा करने के लिए हमारे पास वैलिड कारण भी है! सिर्फ कोहली का मैच देखने के लिए ही इतना सारा लोन लिया था क्या उसने?”

मैदान पर उनकी कमी दर्शकों को भी खल रही है, क्योंकि उन्हें चोर-चोर चिल्लाने और सेल्फ़ी लेने का मौक़ा नहीं मिल रहा है। उधर, माल्या ने इन आरोपों से साफ़ इनकार किया है। फेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए उन्होंने बताया कि “ये सरासर झूठ है, मेरा पूरा जीवन महिलाओं और बैंक्स को समर्पित है, आप मेरा कोई भी फोटो उठाकर देख लीजिए, मैं उसमे महिलाओं का हौसला बढ़ा रहा हूँ! रही बात क्रिकेट की तो मैंने टिकट खरीदने के लिए लोन माँगा था, लेकिन एसबीआई ने मना कर दिया, इसमें मेरी क्या गलती है? दरअसल, केंद्र सरकार मेरी खराब छवि को और खराब करना चाहती है, इसीलिए ये साजिश कर रही है।” वहीँ, कुछ लोगों का मानना है कि महिला टीम सिर्फ इसीलिए जीत रही है, क्योंकि उन्हें माल्या की मनहूस सूरत मैदान में नज़र नहीं आ रही है।



ऐसी अन्य ख़बरें