Wednesday, 26th July, 2017
चलते चलते

टोक्यो ओलंपिक का स्टेडियम तैयार करने में ज़रूर होगी देरी: जापानी पीएम ने IOC को भरोसा दिलाया

24, Aug 2016 By Ritesh Sinha

रियो. ओलंपिक शुरू होने से पहले हर बार ये खबर आती है कि ओलंपिक शुरू होने वाला है और स्टेडियम अभी बनकर तैयार ही नहीं हुआ। जैसा कि रियो ओलंपिक में भी हुआ और लगभग यही हाल लन्दन ओलंपिक का भी था। लेकिन जापान वाले इस परंपरा को तोड़ने की साजिश कर रहे हैं। उन्होंने स्टेडियम को 2020 के ओलंपिक से पहले ही तैयार करने की साजिश रच डाली है। बताया जा रहा है कि टोक्यो के ‘ओलंपिक-विलेज’ में तेज़ी से काम चल रहा है।

Tokyo Stadium 3
फ़ालतू की तेज़ी दिखा रहे जापानी लोग

जैसे ही ये बात अंतर्राष्ट्रीय ओलंपिक संघ (IOC) को पता चली, उन्होंने जापान के ओलंपिक संघ को जमकर फटकार लगाई और काम को धीमा करने की सलाह दी। साथ ही जापान को चेतावनी भी दी कि अगर उसने 2020 ओलंपिक शुरू होने से पहले अपने स्टेडियमों का निर्माण पूरा कर लिया तो उस पर भारी जुर्माना लगाया जाएगा। आईओसी के प्रेसिडेंट थॉमस बैक ने जापान को चेताते हुए कहा कि “तुम लोग बहुत तेज़ बनकर दिखा रहे हो। साफ़ सुन लो, हमें इन चीज़ों की आदत नहीं है, जब तक लास्ट टाइम तक आपाधापी ना मचे तो हमें मज़ा नहीं आता। तुरंत काम धीमा करो, नहीं तो जुर्माना भुगतने को तैयार रहो।”

मि. थॉमस की ये चेतावनी सुनते ही जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने तेज़ी के लिये अफ़सोस जताया और भरोसा दिलाया कि “टोक्यो का स्टेडियम भी तय समय में तैयार नहीं होगा। आपको ओलंपिक के उद्घाटन वाले दिन भी मजदूर दीवारों पर पेंट करते और टाइल्स लगाते हुए मिलेंगे। स्वीमिंग पूल में तभी पानी छोड़ा जायेगा, जब खिलाड़ी कूदने को तैयार खड़े होंगे।” साथ ही शिंजो आबे ने भरोसा दिलाया है कि उद्घाटन के दिन कम से कम दस JCB सड़कों की मरम्मत करती मिलेंगी।

शिंजो आबे ने एक कदम और आगे जाते हुए कहा कि “अगर जरूरत पड़ी तो इसमें हम भारत की मदद भी लेंगे क्योंकि भारत के लोगों को लेट-लतीफ़ी से काम करने में महारत हासिल है। भारत का लोहा सारी दुनिया ने तब भी माना था, जब एक तरफ़ कॉमनवेल्थ गेम्स का उद्घाटन हो रहा था और दूसरी तरफ JCB से सड़कों को खोदा जा रहा था।”

शिंजो आबे के आश्वासन के बाद IOC ने राहत की सांस ली है और ओलंपिक स्पिरिट दिखाने के लिये शिंज़ो आबे का शुक्रिया अदा किया है।



ऐसी अन्य ख़बरें