Tuesday, 25th July, 2017
चलते चलते

IPL ख़त्म होते ही महिलाओं में ख़ुशी की लहर, फ़ेसबुक और व्हॉट्सएप पर दे रही हैं एक-दूसरे को बधाईयां

30, May 2016 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. कल रात जैसे ही आईपीएल ख़त्म हुआ, देश भर की महिलाओं ने एक-दूसरे को बधाई देना शुरु कर दिया। वे फ़ोन पर चिल्ला रही थीं, आपस में गले मिल रही थीं और कुछ तो बेचारी ख़ुशी के मारे रोने ही लगीं।

IPL Saas Bahu
सभी माताओं-बहनों का एक बार फिर से स्वागत है

पीतमपुरा में रहने वाली सुमन गोयल ने फ़ेकिंग न्यूज़ को अपनी आपबीती सुनाते हए कहा- “ये दो महीने मैंने कैसे काटे हैं, मैं बता नहीं सकती। ऐसा लगता था जैसे किसी और के घर में रह रही हूं। हसबैंड-बच्चे सब पराये-पराये से लगते थे।” -कहते कहते वो अचानक सुबकने लगीं

फिर 4-5 सेकेंड चुप रहने के बाद बोलीं- “हमें बस अपने सिद्धू भैय्या से उम्मीद थी। सोचा था कि उसकी वजह से ये आईपीएल देखना छोड़ देंगे। लेकिन ये भी पूरे ढीठ हैं! उसकी इतनी बकवास सुनकर भी बेशर्मों की तरह टीवी के सामने ही जमे रहे।”

“हमें तो एक मिनट नहीं झेलते और उसे पूरे 50 दिन तक झेलते रहे। ऐसे होते हैं ये मर्द!” -श्रीमति गोयल ने मुंह बनाते हुए कहा।

“वैसे तो स्टोरी अभी वहीं पे होगी पर फिर भी पता नहीं क्या-क्या निकल गया होगा! मुझे तो कई दिन बाद पता चला कि सिमर मक्खी बन गयी। हे भगवान, मैं देख भी नहीं पायी! कहीं बाबाजी का श्राप मुझे भी ना लग जाये!” कहकर वो आंख बंद करके कुछ बुदबुदाने लगीं।

जब रिपोर्टर ने कहा कि “लेकिन मैच के अलावा तो सारा टाइम आप ही…”, तो वो बीच में ही बोल पड़ीं- “8 बजे से पहले कुछ आता नहीं और 12 बजे तक ये मैच चलता रहता था। उसके बाद क्या मैं अन्नू कपूर से जोड़ों की दवा खरीदती!”

“इंडिया का त्योहार…इंडिया का त्योहार! त्योहार कोई दो-दो महीने तक चलता है भला? मोदी जी को देखो! दो साल का त्योहार एक दिन में निपटा दिया। और वैसे भी ये सिर्फ़ मर्दों का त्योहार था, हमारे लिये इसमें था ही क्या!” -कहकर वो होमशॉप18 पर डबल बेडशीट देखने लगीं।



ऐसी अन्य ख़बरें