Saturday, 24th June, 2017
चलते चलते

ऑस्ट्रेलिया से पहला टेस्ट हारने के बाद टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम का विवरण

25, Feb 2017 By बगुला भगत

पुणे. ऑस्ट्रेलिया से पहला टेस्ट हारने के बाद टीम इंडिया के खिलाड़ी ड्रेसिंग रूम में आपस में उलझ गये। यह पूरी घटना फ़ेकिंग न्यूज़ के ख़ुफ़िया कैमरे में रिकॉर्ड हो गयी। पढ़िये पूरा ब्यौराः

(सारे प्लयेर एक-एक करके मुंह लटकाये आ रहे हैं, जहां अभिनव मुकुंद पहले से बैठा कोल्ड ड्रिंक पी रहा है)

Kohli
अपने आप को चुप रहने का इशारा करते कोहली

कोहलीः साले पेप्सी पी रहा है यहां बैठ के!

(छीनकर मेज पर रख देता है)

मुकुंदः टीम में तो कोई लेता नहीं है, बस फ़ील्डिंग करवाते रहते हैं।

अश्विनः पहले कैच पकड़ना तो सीख ले हीरो!

जड़ेजाः हम वहां बॉलिंग में जान मरा रहे हैं…और ये साहब कैच टपका रहे हैं।

अश्विनः आप रहन ही दो सर जी…

जड़ेजाः आठवें नंबर पे तो बैटिंग आती है…तब मैं क्या कर लूंगा!

विजयः पहले जाके कौन से तीर मार लेता तू! हैं?

जड़ेजाः जब ओपनर ही हग देंगे तो बाद वाले क्या घंटा खेलेंगे!

विजयः दस रन बनाये थे, तुझसे 8 ज़्यादा!

कोहलीः तेरा हिसाब सही है @#&$ जड्डू! पहली पारी में 2 विकेट लिये तो रन भी 2 ही बनाये। दूसरी में 3 विकेट लिये तो 3 ही रन बनाये। शाब्बाश बेटा!

जड़ेजाः औरों ने कौन से 10-10 ले लिये…

कोहलीः ज़्यादा उछल मत @#%$ ! ऐसे 2-2 रन बना के टीम में नहीं रह पायेगा, अब जीजाजी नहीं है कैप्टन! समझ गया?

जड़ेजा (ईशांत की ओर इशारा करते हुए): और ये टांड क्यूं ले रक्खा है टीम में, इससे क्यूँ नहीं कहते कुछ!

राहुल (बीच में आते हुए): आधे से ज़्यादा रन तो मैंने अकेले ने ही बना दिये। अगर मैं नहीं टिकता तो सौ रन के भी लाले पड़ जाते।

कोहलीः सारा कांड तो तूने ही कराया है। तेरे आउट होते ही बाद वाले सारे डर गये। और थोड़ी देर नहीं रुक सकता था पिच पे?

राहुलः लो कल्लो बात! उल्टा चोर कोतवाल को डांटे!

पुजाराः सारे रिव्यूज तो तुम दोनों ओपनिंग में ही खा गये साले, हमारे लिये तो एक भी नहीं छोड़ा।

राहुलः रिव्यूओं को धर के चाटता क्या?

रहाणेः श्श्श्श! जम्बो आ रहा है…

(कोच कुंबले फुनफुनाते हुए एंट्री करते हैं)

कुंबलेः आ गये पिच पे हग के सब के सब…

पुजाराः कोच साब वो…

कुंबलेः तीन दिन भी नहीं पकड़ पाये। किसी की शादी में कन्यादान करने जाना था क्या? बोलो!

कोहलीः जंबो भाई वो…

कुंबलेः और उस कीफ़ से तो ऐसे डर रहे थे, जैसे वो कीफ़ नहीं ‘बीफ़’ है!

जड़ेजाः लेकिन कोच साब, मैंने भी सोच लिया था कि इस साले कीफ़ को इस पारी में भी 6 ही देने हैं, इसलिये मैं लियोन की गेंद पे आउट हो गया।

कुंबलेः तुम लोगों की वहां उनके देश में जा के उनके फास्टरों से फटती है और यहां उनके स्पिनरों के सामने खोल के दिखा दी।

साहाः छोड़ो कोच साब! हारना तो था ही, अच्छा हुआ कि आज ही हार गये।

कोहलीः हां, अब दो दिन एक्स्ट्रा मिल गये…किसी को कहीं किसी से मिलने-विलने जाना…

(तभी उमेश हाथ में कुछ लहराता हुआ आता है)

उमेशः कोहली भाई, ये आपका मुंबई की फ़्लाइट का टिकट वहां नीचे पड़ा हुआ था…

कुंबलेः अच्छा! तो इस बात की जल्दी थी…कप्तान साब को आउट होने की..

कोहलीः नहीं जंबो भाई…वो तो…मैं तो…टिकिट तो…

कुंबलेः ला मुझे दिखा ये टिकट…अभी फाड़ता हूं इसे…

कोहलीः नहीं जंबो भाई…

(दोनों गुत्थमगुत्था हो जाते हैं, ड्रेसिंग रूम में भगदड़ मच जाती है और कोई चीज़ कैमरे पर लग जाती है और आगे कुछ रिकॉर्ड नहीं हो पाता)



ऐसी अन्य ख़बरें