Wednesday, 23rd August, 2017

चलते चलते

बंगलुरू टेस्टः पहले दिन की दुर्गति के बाद टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम का विवरण

04, Mar 2017 By बगुला भगत

बंगलुरू. बंगलुरू टेस्ट के पहले दिन मिट्टी पलीद कराने के बाद जब टीम इंडिया ड्रेसिंग रूम में पहुंची तो कोच कुंबले ने उसे ख़ूब खरी-खोटी सुनायी, जो फ़ेकिंग न्यूज़ के ख़ुफ़िया कैमरे में रिकॉर्ड हो गयी। लीजिये, पढ़िये पूरा ब्यौरा-

(कोच कुंबले ड्रेसिंग रूम में ग़ुस्से में भरे बैठे हैं, सारे खिलाड़ी एक-एक करके मुंह लटकाये आ रहे हैं)

kohli1
“बस दो दिन और निकालने हैं किसी तरह!”

कुंबलेः आओ, महारथियों आओ! आ गये फिर से पिच पे हग के!

कोहलीः इतना क्यूं फैल रहे हो जंबो भाई। आ जाता है कोई एक-आध दिन ख़राब!

कुंबलेः ओ एक-आध दिन! आधी सीरीज़ ख़त्म हो ली…

कोहलीः अब और टेंशन मत दो, नहीं तो कल को ये इससे भी बुरा खेलेंगे।

कुंबलेः अपने देश में ही विदेशी दौरा बना दिया चू@#$ ने! और रिव्यू से क्या दुश्मनी है तेरी? अंधे को भी दिख रहा था कि बॉल सीधी स्टंप पे जा…

साहाः उन्होंने चीटिंग की है कोच साब! हम कीफ़ की तैय्यारी करके गये थे और उन्होंने…

मुकुंदः और पिच में भी तो…

कुंबले (बीच में टोकते हुए): और कैसी पिच पे खेलेगा तू! घास रखो तो तुम्हें दिक़्क़त, घास काट दो तो… (पुजारा की ओर देखते हुए) और इसे देखो! चार मैच खेलते ही ‘नेक्स्ट वॉल’ बन गया। ये मिट्टी की दीवार…

पुजाराः फालतू में मत गोडो! तीसरा टॉप स्कोर मेरा ही है- 17 रन!

कुंबलेः टॉप स्कोरर! उनके सारे बॉलरों का बेस्ट यहीं पे करा देना। छोड़ना मत किसी को!

साहाः हां, अगले मैच में पक्का स्टार्क लेगा। है ना कोहली भाई?

जड़ेजाः हां, चलो स्टार्क की प्लानिंग करते हैं।

कुंबलेः ओ प्लानिंग! इस मैच को तो पूरा कर ले पहले चू@#$!

(तभी कुंबले का ध्यान कोहली पे जाता है, जो कोने में मुंह टेढ़ा कर-करके सेल्फ़ी ले रहा है)

कुंबले (मोबाइल छीनते हुए): इसीलिये भाग के आता है पिच पे से! लंबा मुंह बना-बना के सेल्फ़ी लेने के लिये, हैं?

कोहलीः मोबाइल वापस दे दो जंबो भाई…मैं कह रहा हूं…नहीं तो मेरे मुंह से कुछ…

(कोहली गाली देने के लिये मुंह खोलता ही है कि वो मोबाइल वापस दे देते हैं)

ईशांतः टेंशन मत लो जंबो भाई। हम भी उन्हें 200 नहीं बनाने देंगे।

कुंबलेः तू रहन दे कुतुब मीनार…

ईशांत (रहाणे की ओर इशारा करते हुए): इन्हें भी तो बोलो कुछ! साल-छह महीने में कोई विकेट मिलता भी है तो साले कैच छोड़ देते हैं।

रहाणेः वो घास पे चौकोर-चौकोर से डिजाइन बना रक्खे हैं ना, उनसे ध्यान भंग हो गया।

कुंबलेः तू घास खाने ही भाग रहा था क्या क्रीज़ से निकल के बैटिंग के टाइम! हैं?

रहाणेः आईपीएल में सारी कसर पूरी कर देंगे। देख लेना!

राहुल (बीच में कूदते हुए): शुक्र है मैं आज भी टिक गया। नहीं तो 150 के भी लाले पड़ जाते सर।

कोहलीः तेरी ही तो गलती है सारी! जब 90 बना ही लिये थे तो सेंचुरी पूरी नहीं कर सकता था तू। बाद वाले बच्चे डिमोरलाइज हो गये तेरी वजह से।

(यह कहकर जड़ेजा के सर पे प्यार से हाथ फिराने लगता है)

जड़ेजाः आईपीएल में कितने दिन बच रहे हैं रहाणे?

कुंबलेः अरे हां! ये तो अच्छा याद दिलाया तुम लोगों ने। मुझे भी तो मेन्टरी करनी है मुंबई की!

कोहलीः इसीलिये तो कह रहा हूं, ज़्यादा टेंशन मत लो, बस किसी तरह ये 15-20 दिन निकाल लो…

(इसके बाद सब आईपीएल के बारे में बात करने लगते हैं, कोहली मोबाइल लेकर बालकनी में चला जाता है)



ऐसी अन्य ख़बरें