Sunday, 22nd October, 2017

चलते चलते

मुनाफ़ को ढंग से लुंगी भी नहीं बांधने दी, खेत से ही उठा लाये गुजरात लॉयन्स वाले

16, Apr 2017 By बगुला भगत

भरूच. संदिग्ध तेज़ गेंदबाज़ मुनाफ़ पटेल को गुजरात लॉयन्स की टीम ने आज अचानक प्लेईंग इलेवन में शामिल करके सबको चौंका दिया। जिस समय मुनाफ़ को टीम में सलेक्ट किया गया, उस समय वो तहमद बांधे अपने गांव में बकरियाँ चरा रहे थे।

Munaf Patel
मुनाफ़ को लेने पहुंचा गुजरात टीम का स्टाफ़

टीम मैनेजमेंट ने जब मुनाफ़ को सलेक्ट कर लिया, उन्हें भी तब पता चला कि वो तो होटल में है ही नहीं! आनन-फ़ानन में चार-पांच लोगों को मुनाफ़ के गांव ईखर दौड़ाया गया। जब वे लोग वहां पहुंचे तो मुनाफ़ अपने खेत में बकरियाँ चरा रहे थे। पहुंचते ही वे लोग बोले- “चलो, जल्दी चलो! तुम टीम में शामिल हो गये हो और एक घंटे में टॉस होने वाला है।”

हक्के-बक्के मुनाफ़ ने कहा- “ऐसे चप्पल और लुंगी में ही चलूँ क्या?” तो एक बंदा हाथ खींचते हुए बोला- “हां, टाइम नहीं है यार!” तो मुनाफ़ ने हाथ छुड़ाते हुए कहा- “नहीं…नहीं! एक बार मैं घर तो हो आऊँ, कपड़े-वपड़े बदल लूं…” “कपड़े वगैरह सब वहीं बदल लेना। तुम चलो बस!” दूसरे बंदे ने मुनाफ़ के हाथ से बकरी की रस्सी छुड़ाते हुए कहा।

तीसरा बंदा बोला- “अभी-अभी मेरी मुंबई बात हुई है। वो कह रहे हैं कि पहले हमारी बैटिंग है। जब तक बॉलिंग का टाइम आयेगा, तब तक हम लोग पहुंच जायेंगे।” -यह कहकर उन्होंने मुनाफ़ को ज़बरदस्ती कार में बिठाया और एयरपोर्ट रवाना हो गये।

उधर, मुनाफ़ के सलेक्शन को लेकर पूरे देश में तरह-तरह की अफ़वाहें चल रही हैं। लोग हैरान हैं कि चार साल बाद इस बेचारे को क्रिकेट क्यूं खिला रहे हैं? कुछ क्रिकेट एक्सपर्ट इसे गुजरात लॉयन्स की चाल बता रहे हैं। उनका कहना है कि मुनाफ़ को इतने सालों बाद बॉलिंग करता देख मुंबई इंडियन्स के प्लेयर सदमे में आ जायेंगे और उनकी कंसन्ट्रेशन भंग हो जायेगी।

इस बीच, बीजेपी ने सफ़ाई दी है कि “मुनाफ़ पटेल को हमारे कहने पर गुजरात की टीम में शामिल नहीं किया गया है और ना ही उसके सलेक्शन का गुजरात चुनाव से कुछ लेना-देना है। यह उनकी टीम का फ़ैसला है।” इससे पहले, कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि मुनाफ़ को मुसलमानों के वोट लेने के लिये बीजेपी ने गुजरात की टीम में शामिल कराया है।



ऐसी अन्य ख़बरें