Sunday, 19th November, 2017

चलते चलते

कमेंटेटर ने बल्लेबाज़ को कहा “रन चुराने में है माहिर” तो बल्लेबाज़ ने ठोका मान हानि का केस

27, Oct 2017 By Guest Patrakar

एजेंसी. भारत बनाम न्यूजीलैंड का दूसरा वन डे विवादों से घिरा रहा। जहाँ मैच से पहले पिच फ़िक्सिंग के कारण पिच क्युरेटर को ससपेंड कर दिया गया वहीं मैच के दौरान बल्लेबाज़ पर रन चुराने के आरोप में कॉमंटेटर पर मान हानि का केस ठुक़ गया।

ये क्या बोल गए आकाश
ये क्या बोल गए आकाश

पुणे में खेले जा रहे भारत बनाम न्यूजीलैंड शृंखला का दूसरा वन डे, मैच के पहले, दौरान और बाद में भी रोमांच से भरा रहा। न्यूजीलैंड को छह विकेट से हराने के बाद जहाँ पूरा देश जश्न मना रहा था वहीं दूसरी ओर भारत के ही एक हिंदी कॉमंटेटर आकाश चोपड़ा पर मान हानि का केस ठुक़ गया। हुआ यूँ कि मैच के 45वें ओवर के दौरान जब बल्लेबाज केदार जाधव तेज़ी से रन लेने दौड़े तब कॉमंटेरी कर रहे आकाश चोपड़ा ने उनकी तेज़ दौड़ को देखते हुए कहा “जाधव कितनी चतुराई से सिंगल चुरा लेते है”। इस पर उस दौरान तो जाधव ने कुछ नहीं कहा लेकिन बाद में पता लगने के बाद उन्होंने आकाश पर मानहानि का केस करने की धमकी दे डाली।

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने जाधव का समर्थन किया और बोला “आकाश सबके लिए सर दर्द है, वो इतनी बुरी कॉमंटेरी करते है कि ढ़िंचक पूजा का गाना अच्छा लगने लगता है। मानहानि तो पता नहीं लेकिन जैसी कॉमंटेरी आकाश करते है उस हिसाब से उन्हें पच्चीस तीस सालों की सज़ा मिलनी चाहिए”।

लेकिन समर्थन केवल जाधव को ही नहीं आकाश चोपड़ा को भी मिला। पूर्व भारतीय क्रिकेटर अरुण लाल ने कहा “यह ग़लत गेंद छेड़ दी जाधव ने। इसका ख़ामियाज़ा उन्हें भुगतना पड़ेगा। रेटायअर्ड क्रिकेटर अगर कॉमंटेरी नहीं करेगा तो क्या करेगा? रेटायअर्ड क्रिकेटर के लिए कॉमंटेरी वो ही काम करती है जो रेटायअर्ड अफ़सर के लिए उसका प्रॉविडेंट फ़ंड”।

बात तो दोनो की सही है। लेकिन ग़ौर करने वाली बात यह है कि मानहानि का केस करना आज कल इतना आम हो गया है जैसे हिंदू त्योहारों पर कोर्ट का बैन। हर कहीं नज़र आ रहा है। सवाल यह है कि अगर केदार जाधव आकाश पर केस करते है तो कोर्ट किसके हित में फ़ैसला सुनाएगी?



ऐसी अन्य ख़बरें