Wednesday, 20th September, 2017

चलते चलते

"अगर बड़े मैचों में हारे तो एक घण्टे तक हिन्दी में स्पीच दूँगा" -कोच शास्त्री की टीम को चेतावनी

17, Jul 2017 By Vish

मुम्बई. हाल ही में दुनिया भर के क्रिकेट प्रेमियों को अपनी हिन्दी की चपेट में लेने के बाद रवि शास्त्री ने अब टीम इंडिया को भी अपने घेरे में लेने का मन बना लिया है। कोच शास्त्री ने टीम इंडिया के धुरंधरों को चेतावनी दी है कि अगर टीम बड़े व महत्वपूर्ण मुकाबलों में हारी, तो वो अपनी स्पीच की बेंत से उन्हें अपनी शुद्ध हिन्दी के तेल में डुबो-डुबो के मारेंगे।

Ravi Shastri3
हिन्दी के बल्ले से प्लेयर्स को डराते शास्त्री

दरअसल, टीम इंडिया के वेस्टइंडीज़ दौरे से लौटने पर BCCI ने कोच रवि शास्त्री के लिये एक इंडक्शन प्रोग्राम रखा था, जिसके तहत उन्हें पूरी टीम से रूबरू कराया गया। इस मीटिंग में हुई पूरी बातचीत वहाँ मौजूद एक वेटर ने सुन ली और उसने वो फ़ेकिंग न्यूज़ को लीक कर दी। वेटर ने बताया कि “मीटिंग की शुरूआत तो अच्छी हुई थी। शास्त्री जल्द ही टीम के सभी खिलाड़ियों से घुल मिल गये थे, खिलाड़ी भी वेस्टइंडीज़ में की गयी मस्तियों के बारे में उन्हें विस्तार से बता रहे थे। तभी किसी ने आखिरी टी-20 में मिली हार का ज़िक्र छेड़ दिया, जिस पर जाडेजा ने कहा कि कोई बात नहीं वो तो छोटा सा मैच था, वनडे सीरीज़ तो हमीं जीते।”

“वहाँ से बात चैंपियन्स ट्राॅफ़ी के फ़ाइनल और पिछले साल हुए वर्ल्ड टी-20 के सेमीफ़ाइनल तक पहुँच गयी और देखते ही देखते मामला और शास्त्री दोनों गम्भीर हो गये। फिर शास्त्री ने एकदम से लम्बी-लम्बी हिन्दी छोड़नी शुरू कर दी और इससे पहले कि कोई कुछ समझ पाता, पूरी टीम उसकी चपेट में आ गयी। मैं बड़ी मुश्किल से अपनी जान बचा कर वहाँ से बाहर निकला!”

जब हमने वेटर से पूछा कि “शास्त्री ने हिन्दी में क्या-क्या कहा था?” तो उसने पसीना पोंछते हुए कहा, “जान बचाने के चक्कर में मैं पूरी बात तो ढंग से सुन नहीं पाया पर उन्होंने कुछ ऐसा बोला था, ‘As a coach, मेरा ये हक है आपका ये बोलने के लिये। आपको अपना सौ परसेंट से कम कुछ नहीं देना पड़ेगा। ये जो important matches हैं ना, अगर अब आप इनमें हारते हैं तो मैं सख़त कदम उठाना पड़ूँगा। मैच के बाद पूरी टीम को मैं एक घण्टे हिन्दी में अपना भाषण दे दुँगा।'”

(हम पाठकों को बताना चाहेंगे कि शास्त्री ने जो सटीक वाक्य बोले उसे हम छाप नहीं सकते। इसलिये हमने उनके शब्दों को टोन डाउन करके पाठकों के अनुकूल बनाने का प्रयास किया है ताकि उन्हें पढ़ते वक्त सदमा ना पहुँचे)

हमने टीम के कुछ खिलाड़ियों से भी इस बारे में पूछने के लिये संपर्क किया पर वो कुछ बोलने की हालत में ही नहीं थे। जब हमने शास्त्री से पूछना चाहा कि उन्होंने खिलाड़ियों को ऐसी धमकी क्यूँ दी तो उन्होंने अपनी सफ़ाई में कहा, “As a coach of the National Cricket team, it is my duty to motivate the players to do well and I did just that. No big deal!” -इतना कहकर वो निकल लिये।



ऐसी अन्य ख़बरें