Saturday, 16th December, 2017

चलते चलते

रवि शास्त्री की हिंदी कमेंट्री सुनकर घायल हुआ युवक, चाइनीज भाषा से करने लगा प्यार

15, Jun 2017 By Ritesh Sinha

पटना. अंग्रेजी के दर्शकों को अपनी कमेंट्री से घायल करने के बाद, रवि शास्त्री ने कसम खाई है कि वो हिंदी वालों को भी चैन से जीने नहीं देंगे। पिछले दिनों ही एक सर्वे में खुलासा हुआ था कि इस देश में 80 करोड़ लोग हिंदी समझते हैं, जिनमें से सिर्फ 28 लोग ही उनकी हिंदी पकड़ पाते हैं। फिर भी शास्त्री हैं कि रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। उनकी कमेंट्री की वजह से आये दिन कोई ना कोई हादसा होता रहता है। पटना के रहने वाले आशीष झा उनकी कमेंट्री के नये शिकार बने हैं।

Ravi Shastri1
गावस्कर के साथ मिलकर वारदात को अंजाम देते शास्त्री

हुआ यूँ कि, कल जब आशीष टीवी पे चैंपियंस ट्रॉफ़ी का मैच देखने बैठा, तो अच्छी-खासी हालत में था। रवि शास्त्री मैच का आँखों देखा हाल हिंदी में सुना रहे थे। दस मिनट तक तो आशीष के पल्ले ही नहीं पड़ा कि शास्त्री जी बोल क्या रहे हैं। फिर उसने अपने दिमाग की नसों पर दबाव डालना शुरू किया, लेकिन फिर भी कोई फायदा नहीं हुआ। वी.वी.एस लक्ष्मण की कमेंट्री, इस आग में घी का काम कर रही थी। इसी बीच, शास्त्री ने एक तीन फीट लंबा ‘वाक्य’ बोल दिया, जिसकी चपेट में आकर आशीष गश खाकर कुर्सी से नीचे गिर पड़ा। घरवालों ने उसे तुरंत उठाया और सरकारी अस्पताल में भर्ती करा दिया।

आज सुबह जब उसे होश आया तो उसके घरवालों की जान में जान आयी। लेकिन होश में आते ही आशीष अजीब-अजीब हरकतें करने लगा। वह अपने घर वालों से चाइनीज भाषा की पुस्तकें मांगने लगा और हर बात में “कंफ्यूशियस’ को कोट करने लगा। डॉक्टरों को अपने पास आता हुआ देखकर वह चिल्लाने लगा- “वोअ जिआंग कांग झेंल कु, निमेन डाऊ शी जोजीयाऊ!” यह देखकर डॉक्टर दांतों तले उँगलियाँ चबाने लगे। डॉक्टर पिताम्बर चौरसिया ने बताया कि “लगता है इसके दिमाग में गहरी चोट आई है। चोट इतनी गहरी है कि चाइनीज भाषा भी इसे एकदम सरल लग रही है। खैर! ट्रीटमेंट चल रहा है, देखते हैं क्या होता है! या तो ये ठीक हो जाएगा या पागल हो जाएगा, या फिर क्रिकेट देखना ही छोड़ देगा। तीनों रिजल्ट्स पॉसिबल हैं!”

उधर, रवि शास्त्री ने अपनी गलती ना मानते हुए इस हादसे के बारे में कुछ भी सफाई देने से इनकार कर दिया है। उनके साथ मिलकर इस जुर्म को अंजाम देने वाले वी.वी.एस लक्ष्मण ने सफाई दी है कि “ये बिल्कुल झूठा आरोप है, मैं तो वहीँ बगल में बैठा था। रवि भाई ने कल मस्त हिंदी डाली थी, ..मेरा मतलब है बोली थी। मैंने भी कल अच्छा ‘खींचा’ था। बोत मज़ा आया!”



ऐसी अन्य ख़बरें