Thursday, 24th August, 2017

चलते चलते

ज़ी न्यूज़ ने भारत-पाक मैच देखने वाले डेढ़ सौ कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

05, Jun 2017 By बगुला भगत

नोएडा. ज़ी न्यूज़ ने भारत-पाक मैच देखने वाले अपने डेढ़ सौ कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है। अभी कई और कर्मचारियों पर भी गाज़ गिरने की संभावना है, जिनमें रोहित सरदाना जैसे कुछ बड़े नाम भी शामिल हैं। चैनल के एक क्राइम रिपोर्टर का कहना है कि सुभाष चंद्रा जी को शक़ है कि सरदाना के घर में भी कल मैच चल रहा था।

Subhashchandra
कर्मचारियों को सस्पेंड करते चंद्रा जी

इस रिपोर्टर ने नौकरी जाने के डर से अपना नाम बताने से मना कर दिया। उसके मुताबिक, चंद्रा जी ने मैच से दो दिन पहले अपने सभी कर्मचारियों के घरों में ख़ुफ़िया कैमरे लगवा दिये थे। जैसे-जैसे वो उन कैमरों की रिकॉर्डिंग देखते जा रहे हैं, लोगों को निकालते जा रहे हैं।

इसके अलावा, डॉ. चंद्रा उन लोगों से सबसे ज़्यादा नाराज़ बताये जा रहे हैं, जो कल स्टेडियम में मैच देख रहे थे। उनका कहना है कि “घर पे बैठकर देखने वालों को तो फिर भी माफ़ी मिल सकती है लेकिन स्टेडियम में देखने वालों को तो सीधे फाँसी पर लटका देना चाहिये!”

उन्होंने एक सीनियर एडिटर को हिदायत देते हुए कहा कि “ध्यान रहे, उस लंबू (अमिताभ बच्चन) की कोई एड हमारे चैनल पे ना दिख जाये!” इसके बाद उन्होंने मैच देखने पर मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर को भी अपशब्द कहे और “सारे के सारे ग़द्दार भरे हुए हैं साले इस देश में! -बड़बड़ाते हुए चले गये और ख़ुद को कमरे में बंद कर लिया।

बाद में रिपोर्टर ने बताया कि “इन्होंने कल अपने ड्राइवर को भी नौकरी से निकाल दिया और चिलचिलाती धूप में पैदल चलकर ऑफ़िस पहुंचे। बेचारा ड्राइवर कार चलाता हुआ गाना सुनने के लिये एफ़एम चैनल ढूंढ रहा था कि तभी अचानक ऑल इंडिया रेडियो पर कमेंट्री सुनाई दे गयी। बस फिर क्या था! चंद्रा जी ने ड्राइवर को वहीं खड़े-खड़े निकाल दिया।”

रिपोर्टर यह बता ही रहा था कि तभी एक एडिटर रोता हुआ आया और बोला कि “मेरे मुँह से ‘भारत’ निकलते ही मुझे भी सस्पेंड कर दिया। जबकि मैं तो उन्हें यह कहकर ख़ुश करने वाला था कि ‘सर, भारत ने पाकिस्तान की दो चौकियाँ ध्वस्त कर दीं’ लेकिन उन्हें लगा कि मैं ‘भारत-पाकिस्तान मैच’ बोलने वाला हूँ।”



ऐसी अन्य ख़बरें