Tuesday, 24th October, 2017

चलते चलते

रवि शास्त्री को सोडा-पानी लाकर देने वाला खिलाड़ी होगा सस्पेंड, शक की सुई जड़ेजा पर

19, Sep 2017 By बगुला भगत

मुंबई. चेन्नई वनडे के दौरान टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री की ‘टल्ली-मुद्रा’ वाली तस्वीरें वायरल होने से बीसीसीआई की ख़ूब किरकिरी हो रही है। लोग सवाल पूछ रहे हैं कि मैच ख़त्म होने से पहले ड्रेसिंग रूम में बोतल खुल कैसे गयी? कोच ने मैच ख़त्म होने का इंतज़ार क्यों नहीं किया? इन सवालों से तंग आकर बीसीसीआई ने कल शाम एक जांच कमेटी बिठा दी, जिसने आज सुबह अपनी रिपोर्ट भी सौंप दी।

Ravi Shastri- Talli
शास्त्री जी के पीछे लाल घेरे में (शक के घेरे में भी) जड़ेजा

कमेटी ने रिपोर्ट में उस खिलाड़ी को ज़िम्मेदार बताया है, जिसने शास्त्री जी को सोडा-पानी और चखना लाकर दिया था। कमेटी का मानना है कि ना वो सोडा-पानी लाता, ना शास्त्री जी इतनी जल्दी पैग बगाते और ना बीसीसीआई की इतनी बेइज़्ज़ती होती। कमेटी के एक सदस्य ने नाम ना छापने की शर्त पर फ़ेकिंग न्यूज़ को यह जानकारी दी।

“हमारे देश में पीने वाले का दोष नहीं होता, सारा दोष पिलाने वाला का होता है। ‘एक-आध पैग मुझे भी मिल जायेगा’ -इस चक्कर में कोई भी ‘सामग्री’ लाने के लिये आसानी से तैयार हो जाता है। और जब कोई सामने लाकर रख दे तो इसमें बेचारे शास्त्री जी क्या कर सकते हैं!” -उन्होंने कोच साब को क्लीन चिट देते हुए कहा।

“देखिये, प्लेईंग इलेवन के तो सारे 11 खिलाड़ी उस समय मैदान पर फ़ील्डिंग कर रहे थे। इसलिये हमें उन खिलाड़ियों पर शक है, जो ड्रेसिंग रूम में कोच साब की फ़ील्डिंग में लगे हुए थे। इनमें सबसे पहला शक रविंद्र जडेजा पर है। लेकिन चूंकि कोच और कप्तान की चापलूसी करने में हमारे सारे खिलाड़ी एक-दूसरे के बाप हैं, इसलिये कोई और खिलाड़ी भी ऐसा कर सकता है।” उन्होंने लाचारी जताते हुए कहा।

खिलाड़ियों के अलावा कमेटी को शास्त्री जी के अंडर काम करने वाले स्टाफ़ पर भी शक है, जिनमें बॉलिंग कोच अरुण भगत का नाम सबसे ऊपर है। हालांकि, अभी पक्के तौर पर नहीं कहा जा सकता कि यह सब किसका किया-धरा है। इसलिये कमेटी ने असली मुजरिम का पता लगाने के लिये एक और कमेटी बनाने की सिफ़ारिश की है, जिसे बीसीसीआई ने मंजूर कर लिया है।



ऐसी अन्य ख़बरें