Wednesday, 13th December, 2017

चलते चलते

शास्त्री जी का सलेक्शन इंटरव्यू से पहले करें या इंटरव्यू के बाद?, बीसीसीआई दुविधा में

09, Jul 2017 By बगुला भगत

मुंबई. टीम इंडिया के डायरेक्टर रहे रवि शास्त्री का अब टीम का हेड कोच बनना भी तय माना जा रहा है। बस, उनका सलेक्शन करने के लिये इंटरव्यू-इंटरव्यू खेलना बाक़ी है। लेकिन उससे पहले बीसीसीआई एक बहुत बड़ी दुविधा में पड़ गयी है। असल में, बोर्ड के अधिकारी तय नहीं कर पा रहे हैं कि शास्त्री का सलेक्शन इंटरव्यू से पहले करें या इंटरव्यू के बाद!

BCCI3
“इंटरव्यू के बिना सलेक्ट नहीं कर सकते क्या तुम लोग?”

बोर्ड के एक सीनियर अफ़सर ने इस दुविधा की वजह बताते हुए कहा कि “क्या बताएँ! हम तो बुरी तरह फंस गये! अगर शास्त्री जी को हम इंटरव्यू के बाद सलेक्ट करते हैं तो इससे उनकी ईगो को ठेस लग सकती है क्योंकि उनका क़द कोच की पोस्ट से कहीं बड़ा है। लेकिन अगर हमने उन्हें इंटरव्यू से पहले सलेक्ट कर लिया तो ये मीडिया वाले हल्ला मचाएंगे कि सलेक्शन में फ़िक्सिंग हुई है।”

“अब आप ही बताओ भाईसाब! जिस बंदे को कप्तान कोहली ने सलेक्ट कर लिया हो, उसे कोई रिजेक्ट कर सकता है भला! इसीलिये हम सोच रहे थे कि उनके सलेक्शन का एलान पहले कर दें, इंटरव्यू उसके बाद होता रहेगा।” -अधिकारी लैपटॉप पर स्काइप की सेटिंग चेक करते हुए बोले।

“लेकिन सर, शास्त्री के नाम पे गांगुली ने फिर से पंगा कर दिया तो?” यह सुनकर अधिकारी ताव में आते हुए बोले- “अब टीम में गांगुली की चलेगी यो कोहली की? हैं! माना कि गांगुली भी छोटा-मोटा ‘दादा’ है लेकिन अब टीम का असली दादा कोहली है। समझे गये जन्नलिस्ट!”

उधर, सूत्रों का कहना है कि जिन 5 और लोगों को बीसीसीआई इंटरव्यू-इंटरव्यू खेलने बुला रही है, रिजेक्ट होने पर उनमें से 4 तो कुछ नहीं कहेंगे लेकिन सहवाग ज़रूर कोई ना कोई लकड़ी करेगा। इसलिये बीसीसीआई सोच रही है कि इंटरव्यू कराये बिना ही शास्त्री जी को ऐसे ही सर्वसम्मति से सलेक्ट कर लें।



ऐसी अन्य ख़बरें