Thursday, 19th January, 2017
चलते चलते

राखी बंधवाने के डर से भागते युवक को 100 मीटर बाधा दौड़ में वाइल्ड कार्ड एंट्री, ओलंपिक में भारत का एक मेडल पक्का

16, Aug 2016 By बगुला भगत

पटना. रियो ओलंपिक में भारत का कम से कम एक गोल्ड मेडल तो पक्का हो गया है। पटना साइंस कॉलेज के राकेश रंजन को उसकी तेज़ स्पीड की वजह से रियो ओलंपिक की 100 मीटर बाधा दौड़ में वाइल्ड कार्ड एंट्री दी गयी है। और यह चमत्कार हुआ है राखी की वजह से!

Rakhi
राखी के डर से भागता राकेश

हुआ यूँ कि राकेश अपने दोस्तों के साथ कल एडम ब्लॉक के सामने खड़ा था। तभी उसने देखा कि पारुल पाठक (उसकी क्लासमेट) मुस्कुराती हुई उसकी ओर चली आ रही है, जिसने हाथ में कुछ छुपा रखा है। यह देखते ही राकेश के मुंह से निकला “नहीं” और उसने बेतहाशा दौड़ लगा दी। वो ऐसा भागा ऐसा भागा कि सारे रिकॉर्ड तोड़ दिये।

कॉलेज और मार्केट में जिन लोगों ने राकेश को भागते देखा, उनका कहना है कि “ऐसा रेसर दुनिया में आज तक पैदा नहीं हुआ!” कुछ लोगों ने मोबाइल से उसका वीडियो बना लिया और नेट पर डाल दिया। यू-ट्यूब पर अपनी 15 अगस्त वाली स्पीच देख रहे प्रधानमंत्री मोदी की नज़र उस वीडियो पर पड़ गयी। उन्होंने तुरंत ओलंपिक के आयोजकों से बात की और राकेश को रियो भिजवाने का इंतज़ाम किया।

खेल मंत्री विजय गोयल ने भी ख़बर सुनते ही ट्वीट किया कि “कम ऑन राकेश! फिकर मत करो! हम दोनों उस बोल्ट को नानी याद दिला देंगे।” उनके ट्वीट को देखते ही प्रधानमंत्री ने उन्हें फ़ोन किया और अगली फ़्लाइट से भारत लौटने को कहा है।

उधर, राकेश के दोस्त पवन परदेसी ने हमारे संवाददाता को बताया कि “हमें उसकी रेस के टाइम पे पारुल को भी उधर रखना पड़ेगा, नहीं तो वो दसवें नंबर पे भी नहीं आ पायेगा।” फिर उसने राकेश की दौड़ का राज़ खोलते हुए कहा “उसके मन में राखी का ऐसा ख़ौफ़ बैठा हुआ है कि दस दिन पहले ही कॉलेज आना बंद कर देता है। फ़ेसबुक और व्हॉट्सएप वगैरह कुछ भी खोलकर नहीं देखता- पता नहीं कौन भैय्या बोल दे!”

“बेचारे को अब तक तीन लड़कियां पसंद आयीं और तीनों ने ही उसे राखी बांध दी।” -पवन ने ‘च्च्च च्च्च’ करते हुए कहा।



ऐसी अन्य ख़बरें