Friday, 28th July, 2017
चलते चलते

पीवी सिन्धु के समर्थन में आगे आयीं महिलाएं, एक साल तक गोल्ड ज्वेलरी ना खरीदने की क़सम खायी

21, Aug 2016 By Ritesh Sinha

नयी दिल्ली. ज़बरदस्त खेल दिखाने के बावजूद पीवी सिन्धु ओलंपिक में सोने का मेडल जीतने से चूक गईं और उन्हें चांदी से ही संतोष करना पड़ा। फ़ाइनल में उनकी इस हार का असर पूरे देश में दिखायी देना शुरु हो गया है। देश की सभी महिलाऐं सिन्धु को सोना नहीं मिलने से भयंकर दुखी हैं और उन्होंने फैसला किया है कि सिन्धु के समर्थन में अब हम अगले एक साल तक सोने की कोई चीज़ नहीं खरीदेंगी।

Jewellery2
अब यहीं पड़ा रहेगा ये मुआ सोने का हार

इस ऐतिहासिक निर्णय के बारे में जानकारी देते हुए ‘आल इंडिया शॉपिंग-क्वीन एसोसिएशन’ (AISQA) की सेक्रेटरी कनिका सोनी ने बताया कि “ये मुआ गोल्ड अपने आप को समझता क्या है? किसी भारतीय महिला के पास आता तो उसकी इज्ज़त भी होती। जब वो स्पेनवाली इसे ले जाकर अपनी दराज में डाल देगी, तब पता चलेगी इसे अपनी औक़ात! खैर..हमने भी गोल्ड से बदला लेने का तरीका ढूंढ लिया है। जा, अब हम तुझे एक साल तक हाथ भी नहीं लगाएंगी गोल्डवा!” कनिका जी ने गुस्से में कहा।

“तो क्या आप शॉपिंग करना छोंड देंगी?” ऐसा पूछे जाने पर कनिका जी ने स्पष्ट किया कि “बिलकुल नहीं!, हमने सिर्फ गोल्ड खरीदने पर रोक लगाईं है, अगर कोई महिला चाहे तो चांदी के गहने खरीद सकती है। यहाँ मैं अपनी महिला बहनों से अपील करती हूँ कि पैसे आप उतने ही खर्च कीजिए, जितने पहले कर रहीं थीं, पैसे खर्च करने में कोई कमी नहीं आनी चाहिए। बस आपको इतना ख्याल रखना है कि जो आप खरीद रही हैं वो गोल्ड से बना हुआ ना हो।” कनिका जी ने अपनी बात पूरी की।

उधर, इस निर्णय के बाद हर शहर के सर्राफा बाजारों में महिला कमांडो घूम-घूम कर महिलाओं के बैग चेक कर रही हैं। “मैंने चांदी के तीन नेकलेस लिए, दो जोड़ी टॉप्स लीं और चांदी के ही कंगन लिए, मेरी बेटी की शादी है ना.. लो देख लो!” दिल्ली के सर्राफा बाजार में टहल रही एक महिला ने अपना बैग दिखाते हुए कहा।



ऐसी अन्य ख़बरें