Wednesday, 20th September, 2017

चलते चलते

युवती ने सिर्फ़ पांच मिनट में ही सलेक्ट कर ली राखी, दुकानदार हुआ बेहोश

06, Aug 2017 By Ritesh Sinha

भोपाल. रक्षाबंधन आते ही बहनें अपने भाईयों के लिए राखी खरीदने बाज़ार पहुँच जाती हैं, और बाज़ार में जब तक राखी बेचने वाले को पागल ना कर दें, तब तक उन्हें कोई राखी पसंद ही नहीं आती। “किसी नये मॉडल में दिखाईए ना!” कह-कहकर वो दुकान वाले की बैंड बजा देती हैं। लेकिन एक चौंका देने वाली घटना में, सिर्फ पांच मिनट में ही अपने भाई के लिए राखी पसंद करने का अनोखा मामला सामने आया है।

Rakhi
राखियों के बीच में दुविधा में खड़ी सोनाली

समता कॉलोनी में रहने वाली सोनाली सेन, कल अपने भाई आयुष के लिए राखी खरीदने बाजार गई थी। राखी की दुकान पर पहुँचते ही सेठ कांति लाल ने उनका स्वागत किया, और कहा- “आइए मैडम! किस टाइप की राखी चाहिए आपको?” “सिम्पल सी ही दिखा दीजिए!” -सोनाली ने अपना पर्स काउंटर पर रखते हुए कहा। यह सुनते ही कांतिलाल ने तुरंत छः-सात राखी के डिब्बे सोनाली के सामने रख दिए। उन्हें लगा कि सोनाली अभी राखी पसंद करने में बहुत समय लेगी, इसलिए वह दूसरे ग्राहकों को निपटाने लगे।

अभी पांच मिनट भी नहीं हुए थे कि सोनाली ने राखी पसंद कर ली और सेठजी को आवाज लगाईं। “भैया मुझे ये राखी पसंद है! कितने की है बताओ ना?” इतनी जल्दी यह विस्फोटक सवाल सुनकर वो अपने आप को संभाल नहीं पाए और दुकान के अंदर ही चक्कर खाकर गिर पड़े। बाद में उन्हें नज़दीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहाँ रात भर चले इलाज के बाद उन्हें आज सुबह ही होश आया।

अस्पताल की बेड पर लेटे-लेटे उन्होंने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया कि, “बड़ी खौफनाक लड़की थी भाईसाब! तीस साल के बिजनेस में मैंने, ऐसा कस्टमर आज तक नहीं देखा। ‘ये वाला दिखाओ, वो वाला दिखाओ’ कहकर लड़कियां कम से कम एक घंटा तो लगाती ही हैं, लेकिन इसने तो सारे रिकॉर्ड ही तोड़ दिए। क्या यही संस्कार दिए हैं इसके माँ-बाप ने इसे!” -उन्होंने सोनाली के माँ-बाप को भी लपेटते हुए कहा।

उधर, चारों तरफ़ हो रही थू-थू को सुनकर सोनाली ने अपनी सफाई में कहा है कि, “आगे से मैं ध्यान रखूँगी। वो तो मैं कल जल्दी में थी! एक्चुअली, मुझे पार्लर जाना था! वरना पिछले साल तो मैं भी तीन घंटे में राखी खरीदकर दुकान से निकली थी!”



ऐसी अन्य ख़बरें