Thursday, 18th January, 2018

चलते चलते

ख़ुलासाः महँगे मैरिज होम्स की वजह से इटली जाकर शादी करनी पड़ी विराट-अनुष्का को

15, Dec 2017 By Pushpendra Singh

नई दिल्ली. बहुचर्चित प्रेमी युगल विराट-अनुष्का आखिर 7 जन्मों के बंधन में बंध ही गए। जहाँ एक तरफ पूरा फैन जगत इस ख़बर को लेकर ख़ासा उत्साहित दिखा तो वहीं दूसरी तरफ इटली में जाकर शादी करने को लेकर काफी लोगों में निराशा भी दिखी। कई लोगों ने इसे लेकर सोशल मीडिया पर अपना रोष भी जाहिर किया।

virushka
खर्चा बचाने के लिये इटली में शादी रचाते विराट-अनुष्का

लेकिन इस फ़ैसले से उनके कई रिश्तेदार काफ़ी खुश दिखाई दिये। कारण था कि उनके लिफ़ाफ़े के वो 500 रुपये बच गये, जो उन्हें शादी अटेंड करने पर देने पड़ते। लेकिन दूसरे लोगों के लिए यह समझ पाना बहुत मुश्किल हो रहा था कि आखिर उन्होंने इतनी दूर जाकर गुपचुप शादी क्यों की? कई ट्रॉल्स ने तो इस शादी के तार क्वात्रोची या फिर अंटोनिओ मैनो उर्फ़ सोनिया गाँधी से जोड़ने की भी कोशिश की।

इन्हीं सारी अटकलों को विराम देते हुए विराट कोहली की बुआ ने आज एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि “दिसम्बर में तगड़ा सारग होने के कारण दिल्ली-मुंबई में ‘मैरिज गार्डन’ अर्थात परिणय वाटिकाओं के किराए आसमान छू रहे हैं। कोहली तो फिर भी इतना किराया झेल लेता लेकिन लगातार फ्लॉप फिल्में दे रही अनुष्का के लिए ये मुश्किल था।”

“‘combined’ शादी करने के सिद्धांत के कारण आधा भार अनुष्का के परिवारजनों पर भी पड़ता, जो कि बहुत ही ज़्यादा था। इसलिए युगल ने सूझबूझ दिखाते हुए इटली जाकर शादी करने का फैसला किया। हमारा यह कदम कई मायनों में लगातार महंगे हो रहे मैरिज गार्डन्स के सांकेतिक विरोध में भी था।” -बुआ जी ने बताया।

उधर, कांग्रेस ने भी इस मुद्दे पर सरकार को घेरने में कोई कमी नहीं छोड़ी। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कांफ्रेंस कर सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि “एक समय ऐसा था जब इटली के लोग हमारे यहाँ आकर शादी किया करते थे और अब युवाओं को शादी के लिये इटली जाना पड़ रहा है। यह सरकार शादी-विरोधी सरकार है।”

हाल ही में आ रही रिपोर्ट के अनुसार उनके इस दबाव का सरकार पर असर भी हो रहा है। आनन-फानन में वित्त मंत्री जेटली ने सर्कुलर जारी कर आदेश दिया है कि मैरिज गार्डन्स को 18% GST स्लैब से बाहर निकाल कर 12% स्लैब में लाया जाये।



ऐसी अन्य ख़बरें