Monday, 21st August, 2017

चलते चलते

वैलेंटाइन्स डे के लिए पतंजलि ने बनाए कुटाई वाले कंबल, दुकानों पर लगी भीड़

08, Feb 2017 By bapuji

हरिद्वार.  वैलेंटाइन्स डे आने वाला है और सभी लोग इसकी जमकर तैयारी कर रहे है। आर्चीज़ के प्रेम-कार्ड्स और नकली फूलों के प्रेम-गुलदस्ते दुकानों में सज गये हैं और मोटे-मोटे रंगीन टेडी बीयर, दुकानों की शेल्फ में लेटकर लड़कियों को ललचा रहे है। वहीं पार्क मे बैठकर प्रेम का महोत्सव मनाते आशिकों की ‘सेवा’ के लिए असली मजबूत बाँस की लाठियाँ भी तैयार की जा रही है। ऐसे मे बाबा की कंपनी पतंजलि ने भी अपना नया प्रॉडक्ट ‘कुटाई कंबल’ उतार दिया है जिससे सभी कंपनियो की हालत टाइट हो गयी है।

कंबल की सामग्री तैयार करते बाबाजी
कंबल की सामग्री तैयार करते बाबाजी

ये कुटाई कंबल सभी वर्गों को ध्यान में रखकर बनाए गये है। जहाँ ‘सेना’ और ‘दल’ इन कंबलों से आशिकों को ढँक कर अच्छे से कूट सकते है जिस से आशिक किसी की शकल ना पहचान सकें। वहीं आशिक, इन शाक-प्रूफ कंबलों के प्रयोग से कम-से-कम चोट मे अपना सबक सीख सकते हैं। इन कंबलों का डिज़ाइन मिलिट्री के यूनिफॉर्म की तरह किया गया है जिससे पेड़-पौधो के बीच छुपे आशिक दिखाई नही देंगे। कंपनी के सी.ई.ओ. आचार्य जी ने बताया कि- “हमारा एक ही लक्ष्य है, सबका साथ और सबका विकास।”

हरिद्वार के पार्क में किए गये सभी परीक्षणो में ये कंबल सभी मानको पर खरे पाए गये और फटने से पहले सौ लाठियों की मार तक झेल सकते है। ऐसे मे इस नयी खोज को लोगो ने हाथों-हाथ लिया है और पतंजलि के स्टोर्स पर भीड़ लगी रही। लाइन मे लगे आशिक मोंटी ने फेकिंग न्यूज़ के संवाददाता को बताया कि-“पिछले वैलेंटाइन्स पर ऐसे पिटाई हुई कि हफ्ते भर शरीर में दर्द रहा। चलो, अच्छा है कोई हमारे बारे में भी सोचता है।”

वही अपनी लाठी में तेल लगाते, दल के एक कार्यकर्ता ने भी खुशी जताई और कहा कि- “हमारा तो डबल फ़ायदा है एक तो शकल पहचान में नही आएगी और दूसरा, मार पूरे शरीर मे अच्छे से बँट जाएगी। बस एक ही परेशानी है की इन्हे पार्क मे ढूँढा कैसे जाए?”



ऐसी अन्य ख़बरें