Monday, 1st May, 2017
चलते चलते

फ़ेसबुक पोस्ट ‘लाइक’ ना करने को लेकर दो परिवारों में हुई मारपीट, 4 महिलाओं समेत 5 लोग घायल

20, Feb 2017 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. फ़ेसबुक पर डाले गये फ़ोटो ‘लाइक’ ना करने को लेकर कल रात पीतमपुरा में दो परिवारों में जमकर लात-घूंसे चले। आधे घंटे तक चली इस मारपीट में दोनों पक्षों के 5 लोग घायल हो गये, जिन्हें मामूली मरहम-पट्टी के बाद हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। फिलहाल, तनाव को देखते हुए दोनों घरों के बाहर पुलिस तैनात कर दी गयी है।

Women- Fight
‘लाइक’ को लेकर गुत्थम-गुत्था कविता जी और स्मिता जी

सूत्रों के मुताबिक, शर्मा फ़ैमिली की कविता शर्मा ने दो दिन पहले फ़ेसबुक पर अपनी शादी की 25वीं एनिवर्सरी के 55 फ़ोटो डाले थे, जिन्हें स्मिता वर्मा ने लाइक नहीं किया। यह बात कविता जी ने बातों-बातों में अपनी एक दूसरी फ्रेंड पायल को बता दी। अब भगवान जाने, स्मिता को पायल ने बताया या किसी और ने, पर यह बात उन्हें पता चल गयी। शाम को टहलने के टाइम पे दोनों टकरा गयीं। पहले तो दोनों में तू तू-मैं मैं हुई और फिर नौबत मारपीट तक जा पहुंची।

फ़ेकिंग न्यूज़ से बातचीत में कविता शर्मा ने घटना की जानकारी देते हुए बताया कि “परसों मैंने अपनी मैरिज एनिवर्सरी के ‘कुछ’ फ़ोटू डाले थे। उन्हें कल शाम तक भी लाइक नहीं किया उसने। पहले तो मैंने वेट किया कि चलो शायद किचन-विचन में होगी, थोड़ी-बहोत देर में कर देगी। मैं हर पांच मिनट पे चेक करती रही लेकिन उसने किये नहीं।”

“हम उनकी फ़ैमिली के किसी फोटू को छोड़ते हैं क्या! जब भी वे अपने किसी टूर-वूर के फोटू डालते हैं, तो हम तभी के तभी लाइक कर देते हैं और सिर्फ़ लाइक ही नहीं, कमेंट भी करते हैं उन पे! आज तक बिना कमेंट के एक भी फ़ोटो छोड़ा हो तो वो बताये हमें। मैं तो करती ही हूं, शगुन के पापा अलग से करते हैं।” फिर पास सरक कर फुसफुसाते हुए बोलीं- “हम तो उनके ऐसे-ऐसे फोटुओं पे भी लाइक करते हैं, जिन पे कोई थूके भी ना! सच्ची बता रही हूं भाईसाब!”

इसके बाद कविता जी हमारे रिपोर्टर को अपना मोबाइल दिखाते हुए बोलीं- “ये देखो! है कि नहीं एक-एक फोटू पे लाइक और कमेंट। ये देखो, ये चार दिन पहले का है। 5:20 पे उसने डाला, 5:21 पे मैंने लाइक कर दिया…और देखो कमेंट में क्या लिखा मैंने- नाइस पिक! अब बताओ आप!”

“हो सकता है, उन्हें टाइम ना मिला हो या किसी ज़रूरी काम में बिजी रही हों”, यह सुनकर कविता जी हाथ नचाते हुए बोलीं- अजी छोड़ो! हमें क्या पता नहीं है, वो चौबीसों घंटे व्हॉट्सएप और फ़ेसबुक पे ही रहती है, और काम ही क्या है उसे! और सबके फोटो तो ख़ूब लाइक किये हुए हैं उसने उसी टाइम पे, बस हमारे फ़ोटुओं में ही जान निकल रही थी उसकी। भलाई का तो ज़माना ही नहीं रहा भाईसाब!”

“चलो कमेंट करने में तो टाइप भी करना पड़ता है लेकिन लाइक में तो कुछ करना ही नहीं होता, एक क्लिक ही तो करना है बस, ऐसे!” -किसी रिलेटिव के फ़ोटो को लाइक करते हुए उन्होंने कहा।



ऐसी अन्य ख़बरें