Sunday, 17th December, 2017

चलते चलते

सोते हुए पाए गए चौकीदार ने योग दिवस पर 'शवासन' करने की दी दलील, सरकार ने किया सम्मानित

21, Jun 2016 By banneditqueen

दिल्ली. पंजाबी बाग़ की सतनाम कॉलोनी में आज दोपहर एक गार्ड को सोते हुए पकड़ लिया गया लेकिन योग दिवस के नाम पर ना सिर्फ़ वो नौकरी से निकाले जाने से बच गया, बल्कि प्रधानमंत्री के हाथों सम्मानित भी हुआ।

Guard
‘शवासन’ की मुद्रा में गार्ड रामलाल

हुआ यूँ कि कॉलोनी की निवासी मिसेज़ अरोड़ा जब दोपहर में ब्यूटी पार्लर जाने के लिये निकलीं, तो मेन गेट पर चौकीदार रामलाल को न पाकर वो चौंक गईं। काफ़ी देर आवाज लगाने के बाद रामलाल उन्हें पार्क की बेंच पर लेटा दिखायी दिया। पहले तो वो किसी अनहोनी की आशंका से घबरा उठीं लेकिन पास जाने पर पता चला कि वो तो सो रहा है। उन्होंने उसे जगाने के लिये जो़र-ज़ोर से आवाज दी पर वो टस से मस नहीं हुआ। फिर जब उन्होंने उसे छड़ी उठाकर मारी, तब कहीं जाकर उसकी नींद खुली।

उसके जगते ही मिसेज़ अरोड़ा उससे सवाल जवाब करने लगीं तो उसने कहा कि “मैडम हम सो नहीं रहे थे, शवासन कर रहे थे। आपको मालूम नहीं है आज योग दिवस है!” “तो फिर मेरी आवाज़ पे उठे क्यूं नहीं थे?”- मिसेज अरोड़ा ने पूछा। “वो मैडम जी, हम आसन में इतना मग्न हो गये कि आपका आवाज़ सुनाई ही नहीं पड़ा।” -रामलाल ने सफ़ाई दी।

तभी मिसेज अरोड़ा ने देखा कि उनका कुत्ता कहीं दिखायी नहीं दे रहा है, तो वो जोर जोर से रोने लगीं। चीख पुकार की आवाज़ सुनकर कॉलोनी के लोग इकठ्टा हो गये। मिसेज़ अरोड़ा ने रोते हुए सारा किस्सा कॉलोनी वालों को सुनाया। भीड़ में से किसी ने सिक्योरिटी सर्विसेज़ में शिकायत कर दी। परंतु थोड़ी ही देर बाद देखा तो सिक्योरिटी सर्विसेज़ की जगह मीडिया वाले कैमरा और माइक लेकर पहँच गए।

एक महिला पत्रकार रामलाल का इंटरव्यू लेने लगी और दूसरे पत्रकार ने घटना के बारे में ट्वीट कर दिया। ट्वीट पढ़ते ही प्रधानमंत्री मोदी ने योग को बढ़ावा देने के लिये रामलाल को सम्मानित करने का निर्णय कर लिया। अब रामलाल को 50,000 रुपये नकद और बाबा रामदेव के योग शिविर का लाइफ़टाइम फ्री पास प्रदान किया जाएगा।



ऐसी अन्य ख़बरें