Saturday, 24th June, 2017
चलते चलते

सीईओ की पोस्ट के लिये भिड़ रहे हैं 'पान मसाला' खाने वाले दो बंदे

22, Feb 2017 By बगुला भगत

गुरुग्राम. मिलेनियम सिटी की टॉप आईटी कंपनी ‘लिप्रो’ की सीईओ की पोस्ट के लिये दो बंदों में ज़बरदस्त मुक़ाबला हो रहा है। एक का नाम मनोहर मिश्रा है, जो कंपनी में फिलहाल वाइस-प्रेसीडेंट हैं और दूसरे हैं पराग पांडे, जो सीएफ़ओ हैं। दोनों ही ‘रजनीगंधा’ और ‘विमल’ के शौकीन बताये जा रहे हैं।

pan masala1
नया बिज़नेस आइडिया सोचते मनोहर मिश्रा

लिप्रो का निदेशक मंडल अगले महीने नये सीईओ के नाम का एलान करने वाला है। इसलिये पिछले हफ़्ते से दोनों ने पान मसाले की खुराक डबल कर दी है। दोनों जने ओवरटाइम कर रहे हैं मतलब सोते टाइम भी पान मसाले का एक-एक पाउच मुंह में दबाकर सो रहे हैं।

हालांकि, इस मुक़ाबले में पराग पांडे का पलड़ा भारी माना जा रहा है क्योंकि वो ‘रजनीगंधा’ के अलावा ‘पान विलास’ भी फांकते हैं। लेकिन मनोहर मिश्रा को भी हल्के में नहीं ले सकते। गुप्त सूत्र बताते हैं कि मिश्रा जी ने ‘दिलबाग’, ‘शुद्ध प्लस’ और ‘कमला पसंद’ को मिलाकर कोई भयंकर मिक्स्चर बनाया है, जिसका तोड़ पांडे के बाप के पास भी नहीं है।

मिश्रा जी के करियर के सारे उतार-चढ़ाव देखने वाले विपुल नामक क्लर्क का कहना है कि “जब तक इन्होंने ‘कमला पसंद’ लेना शुरु नहीं किया था, तब तक इन्हें कोई पूछता भी नहीं था। लेकिन कमला के ‘अनोखे स्वाद’ ने इनकी ज़िंदगी बदल दी। अचानक से इन्हें गोल्फ़ खेलना, पियानो बजाना, पेन्टिंग करना सब आ गया। जबकि पहले ये ‘साड़ी की किनारी’ बनाना भी नहीं जानते थे।”

“इनके मुंह से निकलने वाली ख़ुशबू से पूरा बोर्ड रूम महक उठता है, सब हिप्नोटाइज से हो जाते हैं। फिर ये मीटिंग में जो भी बिज़नेस आइडिया देते हैं, सब तालियाँ बजाने लगते हैं।” –

इसके उलट, पांडे की सारी क़ामयाबी की वजह रजनीगंधा है। लिप्रो की कैन्टीन में काम करने वाले संजय का कहना है कि “ये पांडे दो साल पहले एक मामूली सा एम्पलॉयी था। और आज देखो! रजनीगंधा खा-खाकर सारा ऑफ़िस क़दमों में झुका लिया।”

फिर उसने राज़ की बात बताते हुए कहा- “वैसे, पांडे और मिश्रा से सीनियर एक और अफ़सर हैं ऑफ़िस में- मित्तल साब! लेकिन वो सिर्फ़ सोचते रहते हैं और बोलते कम हैं, वो राजश्री के स्वाद में सोच है ना!”



ऐसी अन्य ख़बरें