Friday, 20th January, 2017
चलते चलते

"बस पांच मिनट और" कहकर फिर सोये विष्णु भगवान; 'Snooze' मोड में मनाई देवोत्थान एकादशी

13, Nov 2016 By punvendra

क्षीर सागर. देशभर में धूमधाम से मनाया जाने वाला पर्व देवोत्थान एकादशी इस वर्ष स्नूज़ मोड में मनाया गया। ग्यारह नवंबर को जब भक्तजनों ने विष्णु भगवान को उठाने के लिए पूजा-पाठ शुरू किया तो भगवान ने आरती को स्नूज़ मोड पर डालते हुए कहा- “बस पांच मिनट और” और फिर से निद्रा में चले गये। पुराने नोट बंद होने की वजह से पहले से ही हैरान-परेशान भक्त और भी असमंजस में पड़ गए।

Lord Vishnu1
पांच मिनट की झपकी और लेते भगवान विष्णु

जब पांच मिनट हो जाने के बाद भी भगवान विष्णु नहीं जागे तो भक्तों ने हा-हाहाकार मचाना शुरु कर दिया। हो-हल्ले को सुनकर भगवान ने अनमने ढंग से आंखें खोलीं और बोले कि “जाओ, पहले बाकी देवों को उठाओ और जब वे उठकर तैयार हो जायें, तब आकर बताना ताकि हमें बाथरूम खाली मिले।” यह सुनकर भक्त दूसरे देवों के निवास-स्थानों की ओर चले गये।

लेकिन भगवान विष्णु के इस वाक्यांश से यह साफ़ हो गया कि वे भी ‘स्वच्छ भारत अभियान’ का समर्थन करते हैं और दैनिक कार्यों को शुरु करने से पहले नहाने-धोने के लिए बाथरूम का इस्तेमाल करते हैं। बहरहाल, इतना कुछ होने के बाद भी भगवान दर्शन देने के लिए आधा घंटे पहले ही मंदिर पहुच गए।

प्रत्येक वर्ष की भांति, इस बार भी उन्होंने गन्ने का जूस पीकर नाश्ता किया। हर बार की तरह इस बार भी उन्होंने बहुत सारे अंधविश्वासों का खंडन किया। फिर उन्होंने 500 और 1000 के पुराने नोट दान-पेटी में डालने वाले भक्तों की ओर इशारा करते हुए कहा कि “अगर सच्चे मन से कागज़ भी दान करेंगे तो हमें प्रसन्नता होगी और तुम्हारे मन को भी शांति मिलेगी।” इसके बाद उन्होंने ‘शादी-ब्याह लीग’ के नए सीज़न को ध्यान में रखते हुए भी कई बातें कहीं, जिन्हें आप हमारे अगले लेख में विस्तार से पढ़ सकेंगे।



ऐसी अन्य ख़बरें