Thursday, 25th May, 2017
चलते चलते

आईआईटी टॉपर को देनी पड़ेगी अग्निपरीक्षा, सभी रिश्तेदारों के सामने करना होगा पंखा ठीक

28, Apr 2017 By sameer mahawar

उदयपुर. आईआईटी की एंट्रेंस परीक्षा में 360 में से 360 अंक लाकर कल्पित वीरवल ने टॉप करके अपनी जीत का परचम लहरा दिया। लेकिन अपने रिश्तेदारों के सामने अपनी टेलेंट का लोहा मनवाने के लिए अभी भी उसे एक ऐसी अग्निपरीक्षा से गुज़रना होगा, जिसके नाम से बड़े से बड़े इंजीनियर का कलेजा काँप उठता है।

Fan Repairing2
फ़ैन रिपेयरिंग की प्रैक्टिस करता कल्पित

जी हाँ, हर इंजीनियर की तरह कल्पित को भी अपने घर का पंखा ठीक करना होगा, ताकि उसके घरवालों और रिश्तेदारों को यक़ीन हो जाये कि कल्पित वाकई इंजीनियर बनने की तैयारी कर रहा है, न कि कोई स्टैंड-अप कॉमेडियन बनने की!

दिन भर सुर्खियों में छाये रहने के बाद जब कल्पित के पिता मुदित वीरवल ने अपने रिश्तेदारों को यह ख़ुशख़बरी सुनायी तो कल्पित के मौसाजी समेत कई रिश्तेदार उल्टे उनसे कई तरह के सवाल-जवाब करने लगे। फूफा राजेश गोयल ने कहा कि “साले साब! माना कि हमारे भतीजे ने टॉप किया है, लेकिन आज कल के लौंडो में क्वालिटी नहीं रही। किताबो में कुछ और पढ़ते हैं और वास्तविकता में कुछ और करते रहते हैं। आपको तो अच्छी तरह याद होगा कि सिंघल साब के बेटे का क्या हुआ था!”

“बुरा मत मानना भाईसाब! आजकल के इंजीनियरों को प्रैक्टिकली कुछ भी नही आता। एक पंखा ठीक करने को बोल दो तो यूट्यूब में ट्यूटोरियल वीडियो खोलकर बैठ जाते हैं।” -मौसा चितरंजन ने शंका जाहिर की।

एक और दूर के रिश्तेदार बोले, “लड़का आईआईटी मे जा रहा है, बहोत अच्छी बात है लेकिन अगर वहां जाकर उसने चेतन भगत जैसे नॉवेल लिखना चालू कर दिया तो दुनिया को क्या मुँह दिखाओगे? इसलिये पहले यह पता कर लो कि उसका इंटरेस्ट इंजीनियरिंग में है भी या नहीं! कहीं ऐसा ना हो कि आईआईटी में जाकर गिटार बजाने लगे या फोटोग्राफी करने लगे!”

उपरोक्त रिश्तेदारों की इन टिप्पणियों से तंग आकर मुदित जी ने फैसला किया है कि कल्पित अपने सभी रिश्तेदारों के सामने ड्रॉइंग रूम का पंखा ठीक करके दिखाएगा। दूर-दराज के जो रिश्तेदार इस प्रदर्शन को देखने उदयपुर नहीं आ पायेंगे, वे ‘फेसबुक लाइव’ के ज़रिये इसे देख सकते हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें