Saturday, 25th March, 2017
चलते चलते

करवाचौथ पर पति हुआ बीमार, पत्नी पर लगाया 'झूठा व्रत' रखने का आरोप

19, Oct 2016 By बगुला भगत

ग़ाज़ियाबाद. वसुंधरा में रहने वाले विकास मिश्रा के घर में आज त्योहार के दिन कोहराम मच गया। मिश्रा जी सुबह ऑफ़िस के लिये तो ठीक-ठाक निकले थे और निकलते समय अपनी पत्नी लता देवी को डायमंड रिंग दिलाने के ग्यारह साल पुराने वादे को भी पूरा करने का प्रॉमिस किया था। लेकिन करनी का फेर देखिये कि ऑफ़िस पहुंचते ही उनकी तबियत ख़राब हो गयी। यह देखकर कुछ सहकर्मियों ने ताने मारने शुरु कर दिये- “लगता है भाभी जी ने आपके लिये करवाचौथ का व्रत नहीं रखा!”

husband-wife3
व्रत को लेकर लता देवी पर बरसते मिश्रा जी

मिश्रा जी कुछ तो बुख़ार में तमतमा रहे थे, कुछ इन तानों से माथा भन्ना गया। गाड़ी निकालकर घर पहुंचे और पहुंचते ही अपनी माताजी अशरफ़ी देवी से पूछा कि “लता ने सुबह से कुछ खाया है क्या?”, अशरफ़ी देवी ने भी टिपिकल सास की तरह मुंह बनाते हुए कहा- “सारा दिन रसोई में घुसी रहती है, हमें क्या पता क्या-क्या खाती रहती है!”

माताजी की दिखायी दियासलाई ने आग और भड़का दी। वो भनभनाते हुए बेडरूम में गये और लता देवी का हाथ अपने सर पे रखवाते हुए बोले- “खाओ क़सम! तुमने व्रत में कोई ऊंच-नीच नहीं की है।” लता देवी अचानक हुए इस हमले से हड़बड़ा गयीं और अपना हाथ खींच लिया। यह देख मिश्रा जी बदहवास हो गये और बोले कि “हमें पहले से ही पता था, तुम हमारा भला चाहती ही नहीं हो! हमारे लिये तुमसे एक दिन बिना खाये नहीं रहा गया।”

इसके बाद मिश्रा जी ने “शादी में स्टेज के पास कौन लड़का खड़ा था” से लेकर “फ़ोन पे सारा दिन किससे बतियाती रहती हो…हम सब जानते हैं” जैसी साल में दो बार दोहराई जाने वाली सारी लाइनें दोहरा दीं।

यह सुनकर लता देवी सुबकने लगीं और अपने बड़े भैय्या धनंजय को फ़ोन मिला दिया और रोते-रोते बताया कि “भैय्या, हम पूरे मन से बिना नागा के साल के साल बिरत रखते हैं। और देखो ये हम पे कैसे-कैसे लांछन लगा रहे हैं।” बहन का रोना सुनकर धनंजय परिवार के सभी मर्द सदस्यों के साथ इलाहाबाद से चल दिये और अभी रास्ते में हैं। उनके पहुंचने पर और कोहराम मचने की आशंका जतायी जा रही है।



ऐसी अन्य ख़बरें