Monday, 16th January, 2017
चलते चलते

'खाने में क्या बनाऊं' सुनकर तंग आ चुके पति ने बनाया खाने का टाइम-टेबल

20, Jul 2016 By banneditqueen

अजमेर. शादी के 10 सालों में जो सवाल लोकेश जैन ने लगभग हर रोज़ सुना है, वो है- “जी, आज खाने में क्या बनाऊं?” रात को अगली सुबह के नाश्ते का सवाल, सुबह होते ही दोपहर के खाने का सवाल और फिर शाम को रात के खाने का सवाल! रोज़ रोज़ के इन सवालों से तंग आकर लोकेश जैन ने कल खाने का टाइम-टेबल ही तैयार कर दिया।

Husband-Wife 2
खाने के टाइम-टेबल पर झगड़ते लोकेश और मीना

लेकिन इस टाइम-टेबल में दिक्कत ये हुई कि लोकेश ने शनिवार शाम के खाने में ‘गाजर का हलवा’ लिख दिया, बारिश में गाजर ना मिलने पर लोकेश की पत्नी मीना ने परेशान होकर उससे फिर पूछ लिया कि “आज खाने में क्या बनाऊं?” यह सुनते ही लोकेश आपा खो बैठा और दोनों में बहस चालू हो गई। धीरे धीरे बहस इतनी बढ़ गई कि मोहल्ले वाले इकठ्टा हो गए।

पड़ोसन ने मीना को बाहर बुलाकर सारा माजरा पूछा तो उसने बताया कि “अपने मन से कोई सब्जी़ बना देती हूं तो उस पे नाक-भौं सिकोड़ते हैं। इसीलिए रोज़ दस बार पूछकर खाना बनाती हूँ ताकि मन से खाएँ। इन्हें उसमें भी दिक्कत है। और अब देखो! घर में टाइम टेबल लगा दिया है और उसमें लिख दिया है- फूल गोभी! अब इस बारिश के मौसम में फूल गोभी कहाँ से लाऊँ। बताओ आप!”

अपनी बुराई सुनकर लोकेश भी आ गया और पड़ोसन को अपनी तरफ़ मिलाते हुए बोला- “रोज़ रोज़ पूछने के बाद भी खाना तो अपने मन से ही बनाती है। बोल दो कि गट्टे की सब्ज़ी खानी है तो कहेगी कि परसों ही तो बनाई थी, आज फिर से वही! अरे, जब मन से ही बनाना है तो फिर पूछती ही क्यों है?” पड़ोसन उनकी भी हां में हां मिलाने लगी।

अंतिम समाचार लिखे जाने तक दोनों का झगड़ा जारी था। पड़ोसियों के तीन जत्थे उनकी राम-कहानी सुनकर वापस अपने काम-धंधे पर जा चुके थे और इस समय चौथा जत्था सुन रहा था।



ऐसी अन्य ख़बरें