Wednesday, 18th January, 2017
चलते चलते

चार साल पहले हवाई यात्रा करके आए युवक के बैग से भाई ने उतारा एयरलाइन्स का टैग, घर में हुई महाभारत

16, Sep 2016 By sameer mahawar

मुंबई. अपनी छोटी से छोटी चीज़ को सहेज-संभाल के रखने वाले जिग्नेश पटेल को कल अपनी बेहद ही दिल के करीब एक चीज़ को खोना पड़ा जब उसके चचेरे भाई ने उसके पिठ्ठू बैग पर लगा हुआ टैग उतार कर फेंक दिया। बस, इसी बात पर घर में मारपीट की नौबत आ गयी। क्योंकि वो कोई मामूली टैग नही था बल्कि वो ‘वो’ टैग था जो हवाई यात्रियों के सामान पर लगाया जाता है ताकि वो बाद में साबित कर सकें कि उन्होंने वाकई में हज़ारों रुपये खर्च कर के हवाई यात्रा की है।

Tag 3
यही है वो प्राचीन टैग, जिसने करायी महाभारत

जिग्नेश ने चार साल पहले एअर इंडिया के विमान में सफर किया था, जहां एयरपोर्ट पर सामान चेक-इन के दौरान काउन्टर पर बैठी खूबसूरत लड़की ने उसके बैग पर अपने दुबले-पतले हाथों से वो टैग लगाया था।

परम्परा अनुसार, जिग्नेश ने उस टैग को यात्रा समाप्त होने के पश्चात भी नही उतारा क्योंकि उससे उसके बैग की शोभा कम हो जाती। वो जहाँ कहीं भी जाता, उसी टैग लगे हुए बैग को लेकर जाता, जिससे उसे सामाज में पहचान और इज़्ज़त मिली। ऐसा करते-करते जिग्नेश को 4 साल बीत गए और उसकी इज़्ज़त हवाई जहाज़ के किराये की तरह कई गुना बढ़ती गई। लेकिन एक दिन, पुरानी रंजिश के तहत, जिग्नेश के चचेरे भाई गणेश ने उस टैग को फाड़ डाला। सुनने में आया है कि गणेश अपने बड़े भाई को उस गले हुए टैग को हटाने के लिए कई दफा समझा चुका था लेकिन जिग्नेश ने उसकी एक ना सुनी।

गणेश ने इस घटना के बारे में बताते हुए कहा, “भईया जहा कहीं भी जाते, वो सड़ा सा टैग लगा हुआ पिठ्ठू बैग लेकर चल बनते थे। चाहे पिकनिक पे जाना हो, नौकरी पे जाना हो, सब्ज़ी लेने जाना हो, हर जगह वो लोगो को यही दिखाते रहते थे कि उन्होंने किसी ज़माने में फ़्लाइट में सफर किया था। मेरी इंजीनियरिंग की डिग्री भी 4 साल में ख़त्म हो गई लेकिन उनके बैग से वो टैग नही उतरा। उन्होंने बचपन में मेरे साथ नौकरों जैसा सुलूक किया था, जैसे- उनके लिए पानी लाना, दरवाज़ा बंद करना, क्रिकेट खेलते दौरान हमेशा उनके लिये बॉलिंग करना, इत्यादि। लेकिन तब मैंने चूं तक नही की और सब कुछ सहन कर लिया। लेकिन अब मैं चुप नहीं रह सका।”

इस घटना के पश्चात घर में महाभारत जैसे हालात बन गए हैं, जिसका लुत्फ़ उनके सारे पड़ोसी और रिश्तेदार अच्छे से उठा रहे हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें