Sunday, 22nd April, 2018

चलते चलते

घर मे घुसते ही बच्चों का रिजल्ट पूछने वाले मेहमानों को होगी 5 साल की जेल, संसद में बिल पेश

13, Apr 2018 By Fake Bank Officer

नई दिल्ली. काफी दिनों से की जा रही मानव अधिकार संगठनों और आवारा छात्र एसोसिएशन की मांग स्वीकार करते हुए आज सरकार ने लोकसभा में ‘बचपन बचाओ और मेहमान भगाओ बिल 2018’ पेश कर दिया। यदि यह कानून बन जाता है, तो घर-घर जाकर बच्चों से उनका रिजल्ट पूछने वाले पड़ोसियों और रिश्तेदारों को अधिकतम 5 साल की जेल हो सकती है। पाया गया है कि ये लोग अप्रैल और मई में अधिक सक्रिय हो जाते हैं।

Guest asking marks
बच्चे के मार्क्स पूछता एक बिन बुलाया मेहमान

यह ख़बर सुनते ही देश भर के बच्चों में खुशी की लहर दौड़ गयी है। आवारा छात्र एसोसिएशन के अध्यक्ष बिरजू ने इसे संगठन की जीत बताते हुए कहा कि “इस कानून के लिए हमारे साथियों ने जाने कितनी ट्रेनें रोकीं और ना जाने कितनी बसें फूंकीं!”

“आज हमारे उन साथियों की शहादत काम आ गयी” बिरजू ने आगे कहा कि उन्होंने देश भर के बच्चों को यह संदेश दे दिया है कि यदि आगे से कोई भी मेहमान उनसे ऐसे घिनोने सवाल करें तो तुरंत उसके बारे में हमारी हेल्पलाईन ‘help@awarakids.com’ पर बताएं। हमारी लोकल यूनिट द्वारा तत्काल ही उनके खिलाफ कम्बल कुटाई और पत्थरबाज़ी की कार्रवाई की जाएगी।

बच्चो के टिफ़िन से खाना चुराकर खाने वाले हमारे संवाददाता ने 10वीं में चार बार फेल हो चुके छात्र राजू से बात की, जिसका बड़ा भाई ऐसे ही मेहमानों का शिकार हो चुका था। “भैया ने रिजल्ट के सवालों से तंग आकर स्कूल से घर आना ही बंद कर दिया था। टाइम पास करने के लिए सट्टा खेलना शुरू कर दिया। कुछ समय तो IPL में कमाया भी, लेकिन बाद में हारने लगे। फिर उन्होंने पापा के पैसे चुराना शुरू कर दिया।”

जब हमारे संवाददाता ने उनके भैया से मिलने की इच्छा प्रकट की तो राजू ने बताया कि वो आजकल मर्डर के आरोप में उम्र क़ैद काट रहे हैं। “लेकिन उनके गुनाहगार आज भी खुले घूम रहे हैं और मासूमों को अपना शिकार बना रहे हैं।”

आगे राजू भावुक होकर बोला, “बड़ी खुशी हुई। सरकार ने हमारा दर्द समझा। अब फिर कोई बच्चा ऐसे दरिंदों की वजह से अपराधी नही बनेगा।” नम आंखों से राजू बस इतना ही बोल पाया और फिर सिगरेट पीने बाहर चला गया।



ऐसी अन्य ख़बरें