Tuesday, 24th October, 2017

चलते चलते

ओवरटाइम करने को कहा तो सरकारी कर्मचारी बोला- "5 बजे के बाद तो रिश्वत भी नहीं लेता"

29, Sep 2017 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. महान कलाकार प्रेम चोपड़ा ने कहा है कि बेईमानी भी करो तो पूरी ईमानदारी से करो! हमारे सरकारी कर्मचारी भी चोपड़ा साब के पदचिन्हों पर चलते हुए अपने ज़्यादातर काम पूरी ईमानदारी से करते हैं। अगर किसी ऑफ़िस का टाइम पांच बजे तक होता है तो सरकारी कर्मचारी उससे पहले निकलने के लिये अपनी जान की बाज़ी लगा देते हैं। ज़्यादा समर्पित कर्मचारी तो ऑफ़िस को चार बजे से ही खाली करना शुरु कर देते हैं।

टाइमिंग और कर्तव्य-परायणता की ऐसी ही जीती-जागती मिसाल हैं एमसीडी के कर्मचारी भाटिया जी! भाटिया जी को ऑफ़िस आने में बेशक एक घंटे की देर हो जाये लेकिन ऑफ़िस से निकलने में वो एक मिनट की भी देर नहीं करते।

govt-employee-bhatia
पटेल साब को टाइमिंग समझाते भाटिया जी

ऐसी ही एक मिसाल उन्होंने कल उस समय पेश कर दी, जब उन्होंने पांच बजे के बाद रिश्वत लेने से भी मना कर दिया। हुआ यूँ कि भाटिया जी को कल उनके सीनियर पटेल साब ने थोड़ी देर तक रुक जाने के लिये कह दिया।

पटेल साब ने बैग समेट रहे भाटिया जी से कहा कि “भाटिया, अगले तीन दिन छुट्टी है, इसलिये रुक जाओ और थोड़ा ओवरटाइम कर लो। कुछ ज़रूरी फ़ाइलें निपटानी हैं।” ‘ओवरटाइम’ का नाम सुनते ही भाटिया जी भड़क गये। “पटेल साब, आपको अच्छी तरह पता है कि 5 बजे के बाद तो मैं रिश्वत भी नहीं लेता, तो काम लेने का तो सवाल ही पैदा नहीं होता!” -अपने डब्बे से पान निकालते हुए भाटिया जी ने कहा।

“सोच लो भाटिया! वो फ़ाइल सत्य साईं सोसाइटी के अप्रूवल वाली है। थोड़ा ओवरटाइम कर लोगे तो तुम पर भी साईं बाबा की कुछ कृपा हो जायेगी” -पटेल साब ने आँख मारते हुए कहा। लेकिन भाटिया जी पर ‘साईं बाबा’ का नाम सुनकर भी कोई असर नहीं हुआ। वो बोले- “फाइल कहीं भागी नहीं जा रही पटेल साब! वो सोसाइटी वाला एरिया मेरे ही अंडर आता है, मैंने उन लोगों से डील बात कर ली है।” -यह कहकर वो टिफ़िन और बैग उठाकर चलते बने

इस घटना के बाद सारे देश के लोग वक़्त की पाबंदी के लिये भाटिया जी की मिसाल दे रहे हैं कि सरकारी कर्मचारी हो तो भाटिया जैसा!



ऐसी अन्य ख़बरें