Monday, 21st August, 2017

चलते चलते

नये साल पर प्रेमी जोड़ों को दिल्ली मेट्रो की सौगात, अब पूरे दिन रह सकते हैं मेट्रो स्टेशन पर

30, Dec 2016 By Vinay Bhatt

नयी दिल्ली. अगर आप दिल्ली मेट्रो में रोजाना सफर करते हैं तो आपको मेट्रो स्टेशन और प्लेटफॉर्म पर जगह-जगह कुछ लव बर्ड्स बैठे दिखायी देते होंगे। अभी तक मेट्रो का नियम है कि आप निर्धारित डेढ घंटे से ज्यादा देर तक एक्जिट गेट के अंदर नहीं रह सकते।मेट्रो से सफर करने वाले सामान्य नागरिकों को तो इस नियम के होने से कभी कोई परेशानी नहीं हुई लेकिन बेचारे लव बर्ड्स को इस नियम की वजह से मजबूरी में निर्धारित समय से पहले उड़ना पड़ता है।

delhi-metro
मेट्रो में अपने प्रेमी को निहारती एक प्रेमिका

लेकिन अब इन प्रेमी युगलों के लिए मेट्रो एक विशेष व्यवस्था करने वाली है। ख़बर है कि यह सुविधा नये साल से लागू कर दी जाएगी। मेट्रो के मीडिया प्रभारी चंगूमल ने फ़ेकिंग न्यूज़ को बताया कि “ऐसे जोड़ों के लिए स्मार्ट कार्ड की तर्ज पर एक ‘वेरी स्मार्ट कार्ड’ लाने वाले हैं। इस कार्ड से अपने समयानुसार भुगतान कर कितने भी समय तक मेट्रो में या मेट्रो स्टेशन के अंदर ठहर सकते हैं। सीढियों और प्लेटफॉर्म पर इनके बैठने के लिए स्थान चिन्हित किये जायेंगे, जहां कोई सामान्य पैसेंजर नहीं बैठ सकेगा।”

“और तो और, गाड़ी की गति की दिशा में पहले और दूसरे डिब्बे के ठीक बीच जहां दोनों डिब्बे जुड़ते हैं, वो जगह भी इन कपल्स के लिए आरक्षित होगी क्योंकि अगर प्रेमिका नाराज होकर महिलाओं के लिए आरक्षित पहले डिब्बे में चली गई तो कम से कम प्रेमी उसके पास रहकर उसे मनाने की कोशिश कर सकता है।” चंगू जी ने भावुक होते हुए आगे कहा कि “देखिए जी, ये जोड़ियां तो ऊपर स्वर्ग में बनती हैं, जिन्हें बाहर जालिम समाज मिलने नहीं देता। तो हम तो बस इन्हें मिलाने की कोशिश भर कर रहे हैं।”

खैर, इस बारे में हमने कुछ कपल्स से जानना चाहा। एक युगल ने बताया कि हम इसलिये यहां आकर बैठते हैं क्योंकि बाहर जान-पहचान वाले मिल जाते हैं। यहां ज्यादातर लोग मेट्रो पकडने की इतनी जल्दी में रहते हैं कि उन्हें होश ही नहीं रहता कि आस-पास क्या हो रहा है। अब नये नियम से हमें एक-दूसरे के साथ और टाइम मिल जायेगा। इसी बीच एक दूसरे कपल्स ने हमारा ध्यान आकृष्ट किया, जो एक दूसरे का हाथ थामे विज्ञान के सारे नियमों को धता बताते हुए नीचे जाते हुए एस्केलेटर से ऊपर आ रहे थे। हमने उन्हें इस नये कार्ड के बारे में बताया तो प्रेमिका तो फ़ोन पर बिजी होने की वजह से बात नहीं कर पायी लेकिन प्रेमी बोला कि “भाई इसका तो पता नहीं, लेकिन मेरे लिए अच्छा हो गया! पहले तो ठीक टाइम पे बाहर निकलना पडता था और किसी रेस्टोरेंट में जाकर बैठना पड़ता था। वहां अपना भट्टा बैठ जाता था अब यहीं बैठेंगे और कोई बहाना भी नहीं होगा। बाहर इसकी ढेर सारी बातें भी तो सुननी पड़ती थी, ‘हूँ हाँ’ किया तो पका देती थी। अब अन्दर तो हर दो मिनट में मेट्रो के शोर में इसकी ज्यादा बातें भी नहीं सुननी पड़ेगी।” इसी बीच प्रेमिका की फ़ोन पर एक घंटे से चल रही बात खत्म हो गई और वे दोनों हाथ थामे आगे बढ गऐ।

बहरहाल मेट्रो स्टेशन पर समय बिताने वाला हर प्रेमी युगल इस खबर से उत्साहित है। यह सुविधा नये साल के पहले दिन से प्रभावी हो सकती है और संभावना है कि प्रधानमंत्री मोदी कल नव-वर्ष की पूर्व संध्या पर राष्ट्र के नाम संबोधन में इस कार्ड के बारे में भी कोई नया एलान कर सकते हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें