Monday, 21st August, 2017

चलते चलते

पार्क में जिसे भगाने गया, उसी लड़की को दिल दे बैठा बजरंग दल का मेंबर

14, Feb 2017 By बगुला भगत

इंदौर. शहर के मशहूर ‘रीजनल पार्क’ में आज बिल्कुल फ़िल्मी सीन हो गया। वैलेन्टाइन डे पर प्रेमी जोड़ों को भगाने पहुंचे बजरंग दल के एक मेंबर को उसी लड़की से प्यार हो गया, जिसे वो पार्क से भगा रहा था। इश्क़ होते ही उसने अपने साथियों से बग़ावत कर दी और सारे बजरंगी आपस में लट्ठम-लट्ठा हो गये।

bajrang dal1
पुरुषोत्तम जी साथियों के साथ पार्क में

हुआ यूँ कि बजरंग दल के मेंबर पुरुषोत्तम परिहार अपने जुझारू साथियों के साथ प्रेमी जोड़ों को भगाने रीजनल पार्क में पहुंचे थे। पहुंचते ही उन्होंने पार्क में बैठे लड़के-लड़कियों को दौड़ाना शुरु कर दिया। ज़्यादा चूँ-चपड़ करने वालों को उन्होंने प्रसाद स्वरूप कुछ चांटे भी रसीद कर दिये।

इसी चांटा-चांटी के बीच पुरुषोत्तम जी की नज़र झाड़ियों के पीछे गयी, जहां बेंच पर एक जोड़ा बैठा था । पुरुषोत्तम जी झट से झाड़ी फांदकर उधर पहुंचे लेकिन जैसे ही उन्होंने लड़की का हाथ पकड़कर खींचा, उनके पूरे शरीर में बिजली सी दौड़ गयी। तभी उनके साथियों की आवाज़ आयी- “पुरसोत्तम जल्दी कर, हमें दूसरे पारक में भी जाना है!”

लेकिन पुरुषोत्तम जी का हाथ तो चिपक गया था। “तुम लोग चलो, मैं थोड़ी देर में आ रहा हूं!” -उन्होंने साथियों से चिल्लाकर कहा। साथियों ने समझा शायद वो झाड़ियों के पीछे ‘हल्के’ हो रहे हैं। “जल्दी आ जा” कहते हुए वो चले गये। जो पुरुषोत्तम जी सभी लौंडे-लौंडियों से ‘तू-तड़ाक’ कर रहे थे, अचानक उनके मुंह से ‘आप’ निकलने लगा। असल में, ये उनके मोहल्ले की वो ही कन्या थी, जिसे पुरुषोत्तम जी सुबह-शाम ताड़ा करते थे। बस, कभी कुछ कहने की हिम्मत नहीं हुई थी लेकिन आज भगाने के चक्कर में हाथ पकड़ लिया।

फ़ेकिंग न्यूज़ के रिपोर्टर से बात करते हुए पुरुषोत्तम जी ने कहा- “यार, अपन को तो पता ही नहीं था कि लड़की को ‘टच’ करने पे कैसा लगता है। पूरी बॉडी में झुरझुरी दौड़ गयी..बाई गॉड!” -कहते हुए पुरुषोत्तम जी का शरीर ऊपर से नीचे तक काँप गया।

“अट्रैक्सन तो हमें पहले से ही था। और रुच्चू (रुचि का प्यार का नाम) और उस लड़के के बीच में भी कुछ ख़ास था भी नहीं, उनमें बात पहले से ही बिगड़ी पड़ी थी। वे तो फ़िल्मी स्टाइल में अपना ब्रेक-अप करने पार्क आये थे।” -तभी उनके मोबाइल की घंटी बज उठी और वो “रुच्चू का फ़ोन है” कहकर छत पे चले गये।

इस घटना को बजरंग दल के लिये बहुत बड़ा झटका माना जा रहा है। दल के एक वरिष्ठ लट्ठाधिकारी ने लट्ठ को तेल पिलाते हुए बताया कि “अगर हमारे मेंबर ये सब करने लगेंगे तो संस्कृति की रक्षा कौन करेगा!” उधर, पुरुषोत्तम जी के साथ हुए इस प्रेम-हादसे से उन अफ़वाहों को बल मिलने लगा है कि बजरंग दल में सब ऐसे लौंडे हैं, जिन्हें कभी किसी लड़की से पॉजिटिव रेस्पॉन्स नहीं मिल पाता और वे अपने अरमान दिल में लिये तरसते फिरते हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें