Thursday, 14th December, 2017

चलते चलते

फ़्लाइट में शौचालय को ‘लू’ नहीं कह पाया युवक, एयरलाइंस ने किया लाइफ़टाइम के लिए बैन

19, Nov 2017 By Nagesh Mishra

नयी दिल्ली. हवाई जहाज़ में चढ़ने से पहले लोगों को कुछ नियम-क़ायदे सीखने पड़ते हैं। हवाईअड्डे पर घुसते ही फेसबुक पर चेक-इन और फिर हवाई जहाज़ पर चढ़ने से पहले बाहर एक सेल्फी भी लेनी होती है। और चढ़ने के बाद तो ऐसे और भी कई नियमों का पालन करना होता है। लेकिन अगर कोई पैसेंजर इन रूल्स को फ़ॉलो ना करे तो?

passenger-flight
बाथरूम कहने पर युवक को फ़्लाइट से उतारते सिक्योरिटी गार्ड

दिल्ली से उड़ान भरने वाली MH-201 फ़्लाइट में कल एक ऐसे ही पैसेंजर की वजह से अफरातफरी मच गयी। दरअसल एक युवक पहली बार फ्लाइट में चढ़ा था, सहयात्रियों की तत्परता और अंग्रेज़ी का तेज़ बहाव देख कर उसको लघु-शंका आने लगी। शहर की लोकल पैसेंजर ट्रेन की तरह वो आस-पास के यात्रियों को सरकाकर बाहर निकलने ही वाला था कि हवाई देवी (एयर-होस्टेस) आ गयी और उससे बाहर निकलने की वजह पूछने लगी।

लड़का शायद इंजीनियर था, तभी तो सुन्दर लड़की देखते ही उसकी बोलती बंद हो गयी और उसके मुंह से बस इतना ही निकला कि “बाथरूम जाना है”, बस फिर क्या था! आस-पास बैठे यात्री चिल्लाने लगे और पूरे जहाज़ में भागमभाग मच गयी। आपको बता दें कि हवाई जहाज़ में बाथरूम को ‘लू’ न कहना उतना बड़ा ही गुनाह माना जाता है, जितना सरकारी नौकरी में होकर घूस ना लेना।

युवक के इस जवाब से एयर होस्टेस वहीं बेहोश होकर गिर गयी। इसकी शिकायत जब पायलट और बाक़ी क्रू मेंबर्स तक पहुंची, तो विमान की आपातकालीन लैंडिंग करायी गयी और उस युवक को बाहर निकाला गया।

बाक़ी यात्रियों ने बताया कि “हमें तो उस पर तभी शक़ हो गया था,जब वो चढ़ा था। क्योंकि वो ‘लगेज’ को तीन-चार बार ‘सामान’ कह चुका था। इतना ही नहीं, अपनी सीट पर बैठते ही उसने कान में ईअरफ़ोन भी नहीं ठूंसा। और आखिर में उसने ये बाथरूम वाला काण्ड कर ही दिया!” उधर, वो एयर होस्टेस अभी तक सदमे से बाहर नहीं आ पाई है।

उड्डयन मंत्रालय ने इस घटना की शुद्ध अंग्रेज़ी में रिपोर्ट मांगी है। आरोपी युवक के दिमाग की जांच कराई जा रही है। किसी भी संगठन ने अभी तक इस भयानक हादसे की ज़िम्मेवारी नहीं ली है। चेतन भगत इस घटना के विरोध में अपना अवॉर्ड लौटाने निकले ही थे कि उन्हें याद आया कि उन्हें कोई अवॉर्ड मिला ही नही है। फिलहाल युवक को उस वार्ड में रखा गया है, जहाँ हर जगह अंग्रेज़ी में लिखे बोर्ड लगाये गये हैं।



ऐसी अन्य ख़बरें