Sunday, 25th June, 2017
चलते चलते

100% प्लेसमेंट का दावा करने वाले कॉलेज ने टारगेट पूरा करने के लिये अपने ही कॉलेज में बनाया चपरासी 

09, Sep 2016 By banneditqueen

भोपाल. लेकसिटी कॉलेज पिछले कई सालों से शहर का नम्बर वन कॉलेज माना जाता रहा है। सौ प्रतिशत प्सेलमेंट, फ्री वाई फाई, फ्री लापटॉप और सभी आधुनिक सुविधाओं से लैस यह कॉलेज सभी भोपालवासियों की पहली पसंद रहा है। कपिल अग्रवाल भी स्कूल के समय से इसी कॉलेज में पढने का सपना देखता था,आखिरकार उसका सपना भी पूरा हुआ। भारी भरकम फीस चुकाकर कपिल ने लेकसिटी कॉलेज में एडमिशन ले लिया।

Peon2
डायरेक्टर की टेबल साफ़ करता कपिल

कॉलेज के पहले दिन से ही उसने सोच लिया था कि सबसे ज्यादा सैलेरी पैकेज वाला जॉब वही लेकर जाएगा। कई इंटरव्यू देने के बाद आखिरकार उसका प्लेसमेंट उसी कॉलेज में हो गया। कई और बच्चों का भी प्लेसमेंट उसी कॉलेज में हो गया। ऑफर लेटर का सभी को बेसब्री से इंतज़ार था। कॉलेज ने अखबार में कई पन्नों का इश्तेहार भी दिया। कपिल की भी तस्वीर अखबार में छपी ,कपिल ने उत्साहित होकर फेसबुक और इंस्टाग्राम पर अखबार की तस्वीर खींच कर डाल दी। कुछ दिनों बाद कपिल के घर ऑफर लेटर भी आ गया औऱ ऑफऱ लेटर देखकर उसके होश उड़ गये। वह तुरंत कॉलेज पहुँचा, कॉलेज पहुँचते ही उसे कई सारी फाइलें थमा दी गईं। कई और बच्चें भी उसी की तरह फाइलें लेकर घूम रहे थे।

बच्चों ने यह सब देखकर हंगामा करना शुरू कर दिया| हंगामा बढ़ता देख पुलिस को बुलाना पड़ा। कॉलेज के चेयरमैन पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया। चेयरमैन ने बयान दिया कि ” कॉलेज में हर साल 100% प्रतिशत प्लेसमेंट होता है, इस साल बहुत कम कंपनियाँ कॉलेज आई इसीलिए  टारगेट पूरा करने के लिये हमने सभी बच्चों को चपरासी की नौकरी पर रख लिया, हमने सिर्फ पक्की नौकरी का वादा किया था कहीं भी इस चीज़ का वादा नहीं था कि अच्छे पोस्ट वाली नौकरी लगेगी।” पुलिस ने छानबीन करने के बाद यह जानकारी दी कि कई सालों से मोटी रकम देकर कॉलेज प्रबंधन कंपनियों को कॉलेज बुलाती आ रही है, इस बार कुछ कारणों से कम्पनियाँ प्लेसमेंट के लिये नहीं आईं।



ऐसी अन्य ख़बरें