Monday, 26th June, 2017
चलते चलते

वर्ल्ड कप की हार को भुलाकर आफ़रीदी के संन्यास के जश्न में डूबा पाकिस्तान

21, Mar 2015 By बगुला भगत

कराची. वर्ल्ड कप से बाहर होने के बाद स्वदेश वापस लौटी पाक टीम का सैंकड़ों प्रशंसकों ने जिन्ना एयरपोर्ट पर भव्य स्वागत किया। इस अप्रत्याशित स्वागत को देखकर सभी खिलाड़ी गदगद होने के बजाय घबरा गये।

प्रशंसकों ने खिलाड़ियों के बीच में छुपकर चल रहे शाहिद आफ़रीदी को खींचकर कंधों पर उठा लिया और ‘बूम-बूम’ के नारे लगाते उन्हें एयरपोर्ट से बाहर निकालकर ले गये।

Afridi
अपने प्रशंसकों को देखकर आफ़्रीदी चौंक उठे

इस सारे नज़ारे से भौचक्के रह गये पत्रकारों ने जब पूछा कि “टीम तो वर्ल्ड कप में दुर्गति करवा के लौटी है, फिर आप लोग किस बात का जश्न मना रहे हो?”, इस पर एक प्रशंसक ने कहा, “वर्ल्ड कप तो कुंभ के मेले की तरह हर चार साल में आ जाता है, लेकिन ऐसी ‘परमानेंट’ रिटायरमेंट का मौक़ा तो सौ-दो सौ साल में एक-आध बार ही आता है!”

इसके बाद ये सभी प्रशंसक ‘मौक़ा-मौक़ा’ गाते हुए नाचने लगे और आफ़रीदी को फूलों से सजी खुली जीप में डाल दिया।

ख़ुशी में अपने आंसू पोंछते हुए एक प्रशंसक ने बताया कि “हमारे देश की आधी आबादी तब पैदा भी नहीं हुई थी, जब भाईजान ने क्रिकेट खेलना शुरु किया था। अब हम अपनी आने वाली पीढ़ियों को बता सकेंगे कि हमने उन्हें अपनी इन आंखों से रिटायर होते हुए देखा था।”

जीप के आगे चल रहे टैंपो में लदे डीजे पर ‘मौक़ा-मौक़ा’ बजवाकर नाच रहे उनके ‘हमउम्र बुज़ुर्ग’ चचेरे भाई ने बताया कि “जो लोग भाईजान के साथ खेलते थे, वे अब पोते खिला रहे हैं। अगले महीने मेरे पोते यासीन का भी वलीमा है, मैं ख़ुश हूं कि अब इस मौक़े पर उसके आफ़रीदी दादा भी मौजूद रहेंगे।”

इस स्टार क्रिकेटर की तीसरी रिटायरमेंट पर एक बार फिर उन्हें रिसीव करने एयरपोर्ट पहुंचीं उनकी पत्नी ने याद करते हुए बताया कि “जब हमारी शादी हुई थी, तब ये मुझसे पांच साल बड़े थे और अब मैं इनसे दस साल बड़ी हूं!”

जब किसी पत्रकार ने उनसे पूछा कि “शादी के इतने सालों बाद क्या आपको किसी बात का मलाल है?”, इस पर उन्होंने मायूस होते हुए कहा कि “ये हमेशा बैटिंग करने इतनी देर में आते हैं, जब सब कुछ लुट चुका होता है।”

“आपके बच्चे अपने पापा को रिसीव करने एयरपोर्ट क्यूं नहीं आये?”, इस पर श्रीमति आफ़रीदी बोलीं कि “बच्चों ने यह कहकर मना कर दिया कि अगली वाली रिटायरमेंट पे चलेंगे।”

इस बीच, प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ ने आफ़रीदी के ‘संन्यास-दिवस’ पर राष्ट्रीय अवकाश घोषित कर दिया है। इसके अलावा, उन्होंने वैज्ञानिकों की एक कमेटी भी बना दी है, जो आफ़रीदी के अंदर बचे हुए क्रिकेट को देशहित में इस्तेमाल करने के तरीके ढूंढेगी।



ऐसी अन्य ख़बरें