Tuesday, 28th February, 2017
चलते चलते

अफवाह फैलाने के बजाय लोगों को जागरूक कर रहा था युवक, दोस्तों ने व्हॉट्सएप ग्रुप से निकाला

17, Nov 2016 By Ritesh Sinha

कानपुर. मोहन यादव नाम के एक युवक को व्हॉट्सएप की छवि को नुकसान पहुंचाना बहुत महंगा पड़ गया। दरअसल मोहन कल एक ATM में पैसे निकालने गया हुआ था। वहां उसने देखा कि ATM के बाहर लम्बी लाइन नहीं लगी हुई है, ATM बिलकुल खाली है। यह दुर्लभ दृश्य देखकर उससे रहा नहीं गया और उसने तुरंत ATM का फ़ोटो खींचा और “देखो! इस ATM पे कोई नहीं है, बिल्कुल खाली पड़ा है। यहां आकर पैसे निकाल लो!” के कैप्शन के साथ बहुत सारे ग्रुप्स में शेयर कर दिया।

Whatsapp
मोहन के मैसेज को हैरानी से देखती उसकी फ्रेंड मयूरी

लेकिन मोहन को क्या पता था कि दूसरों की मदद करना उसे महंगा पड़ जाएगा। इस फोटो को देखते ही सभी ग्रुप्स के लोग आग बबूला हो गए। वे कमेंट्स में उसे गालियां देने लगे और उसे अपने-अपने व्हॉट्सएप ग्रुप से निकाल दिया। और तो और, उसके अपने घरवालों ने भी उसे अपने फैमिली ग्रुप से निकाल दिया। मोहन को व्हाट्सएप ग्रुप से क्यों निकाला गया, इस बारे में उसके दोस्त सुरेश ने बताया कि-“व्हाट्सएप ऐसी सही और सच्ची-मुच्ची की बातों के लिये थोड़े ही बना है। व्हॉट्सएप तो जोक वगैरह शेयर करने के लिये बना है।”

“लेकिन मोहन ने पॉजिटिव अफवाह फैलाकर इस नियम को तोड़ दिया है इसलिए हम उसे अपने ग्रुप में एक मिनट भी बर्दाश्त नहीं करेंगे, चाहे वो हमारा बचपन का फ्रेंड ही क्यों ना हो!”

वहीं, मोहन के छोटे भाई सोहन का कहना कि- “मोहन पहले ऐसा नहीं था। वो हर मैसेज को बिना सोचे-समझे फॉरवर्ड कर देता था। उसने तो नमक वाली अफवाह को फैलाने में भी जमकर मेहनत की थी। लेकिन पता नहीं अचानक उसे क्या हो गया? अब वो व्हॉट्सएप मैसेजों को बड़े ध्यान से पढने लगा है और जो मैसेज उसे अफवाह लगता है, उसे वो फॉरवर्ड ही नहीं करता। लेकिन फिक्र की कोई बात नहीं है, वो जल्दी ही ठीक हो जायेगा। हम उसे आज शाम को डॉक्टर के पास ले जा रहे हैं।”



ऐसी अन्य ख़बरें